अंग्रेजी विषय में कमजोर होने के कारण लड़के उड़ाते थे कॉलेज में मजाक, लेकिन IAS ऑफिसर बन दिया मुंहतोड़ जवाब……

जीवन में बस आपके इरादे बुलंद होने चाहिए तो सफलता तो आपको अवश्य ही मिलती है इस कहावत का उदाहरण पेश किया है हम सभी के समक्ष आईएएस ऑफिसर सुरभि गौतम ने सुरभि एक छोटे से गांव से आई हुई लड़की है जिन्होंने अपनी मेहनत और लगन के चलते इतनी बड़ी कामयाबी हासिल करें लेकिन सुरभि की कहानी सुनने के बाद आप की भी आंखें नम हो जाएंगी क्योंकि इन्होंने अपने जीवन में अनेकों कठिनाइयों का सामना किया और यह बात तो आप सभी को जरूर पता होगी कि भारत देश में लड़कियों का आगे बढ़ना कितना मुश्किल है और यह कार्य कितना प्रेरणादाई है अन्य युवतियों के लिए।

तबीयत खराब होने के बावजूद भी करी थी पढ़ाई

सुरभि गौतम बचपन से ही पढ़ने लिखने में काफी अच्छी थी और स्कूल में हमेशा अव्वल आया करती थी बचपन में और उन्होंने अपनी दसवीं कक्षा की परीक्षा में 93.4% अंक अर्जित करें और अपनी क्लास में टॉप किया था इतना ही नहीं बल्कि सुरभि ने गणित और विज्ञान जैसे कठिन विषयों में भी 100 में से 100 अंक लाकर अपने स्कूल में एक मिसाल कायम करी थी जो कि इससे पहले किसी भी बच्चे नहीं करता पढ़ाई में होने के कारण उनका मेरिट लिस्ट में नाम भी आया था जिसके लिए उन्हें काफी सराहना भी मिली थी उसके बाद 12वीं में बुखार आने की वजह से वह डॉक्टर के पास चेकअप के लिए जाना पड़ता था लेकिन इतने बीमार होने के बावजूद भी कभी भी उन्होंने पढ़ाई से ध्यान नहीं आया और उस वक्त भी वह पढ़ाई करने से कभी पीछे नहीं होती और अच्छे मार्क्स लाकर 12वीं कक्षा पास करी।

इंजीनियरिंग कॉलेज कम्पलीट होने के बाद कॉलेज प्लेसमेंट के समय सुरभि को एक अच्छी जॉब भी मिल गई थी। जो कि उस वक्त में काफी अच्छी बात थी लेकिन सुरभि अपने जीवन में कुछ और करना चाहती थी और उनका लक्ष्य लोगों की सेवा करना था इसीलिए उन्होंने जॉब को ज्वाइन नहीं किया क्योंकि उन्हें वहां पसंद नहीं थी फिर सुरभि ने कई अन्य प्रकार के कठिन सरकारी प्रांतीय और उन्हें अच्छे नंबरों से पास किया उसके बाद उन्होंने सन 2013 में IES की परीक्षा पास करी। जिसके बाद उन्होंने एक लेवल और ऊपर जाकर सन 2016 में आईएएस की परीक्षा भी क्लियर करें और एक आईएएस ऑफिसर गई।

+