अपने बिहार के “लाला सुप्रभात” बने वाइस प्रेसिडेंट गूगल इंडिया के, कई देशों से आ चुके हैं जॉब के offer…..

बिहार के नौजवान ने एक बार फिर से कमाल कर दिखाया है। दरभंगा के सुप्रभात गूगल इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट बन चुके हैं और उन्होंने बहुत ही कम उम्र में यहां कामयाबी हासिल करी है हरियाणा के गुड़गांव स्थित गूगल ऑफिस में 28 अगस्त को हुए इंटरव्यू। अमेरिका की तीन यूनिवर्सिटी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, हावर्ड यूनिवर्सिटी, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने कंप्यूटर साइंस में इंटीग्रेटेड कोर्स विथ
पीएचडी कोर्स के लिए छात्रवृत्ति देने की भी घोषणा की है ।

इस दौरान उनके साथ काफी जयदा विषयो में बातचीत हुई थी जिसमें वेतन भी देने की बात हुई थी। लेकिन सुप्रभात ने भारत में ही रह कर काम करना चाहते थे। वह अपने देश की सेवा करना चाहते थे कंप्यूटर साइंस के 17 विषयों पर गहनता से अध्ययन करने वाले सुप्रभात शानदार प्रतिभा के मालिक हैं। उनकी नॉलेज काफी अच्छी है जिसके बाद उन्होंने यह कारनामा कर दिखाया। बचपन से ही सुप्रभात पढ़ाई लिखाई में काफी तेज थे और साइकिल सिक्योरिटी आर्टिफिकल इंटेलिजेंस और भावी पीढ़ी के दिमाग को हैक करने वाली नॉलेज ने उन्हें ज्यादा इंटरेस्ट था और वह ऐसे जिलों में हमेशा से ही रुचि रखते थे उन्होंने अपने जीवन की प्रेरणा हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मानते हैं और उन्हें अपना आइडियल समझते हैं। इससे पहले सुप्रभात काफी कंपनियों में काम कर चुके हैं जैसे इंफोसिस, टीसीएस, एक्सचेंजर और जेपी मोर्गन जैसी वर्ल्ड वाइड कंपनियों में काम कर चुके हैं। उनके पिता एक प्रोफेसर हैं जो कि राजेंद्र मिश्रा कॉलेज में सेवा पर कार्यक्रम है लिहाजा सुप्रभात के प्रारंभिक पढ़ाई भी सहरसा जिले से ही हुई थी।

उन्होंने सन् 2017 में डीपीएस सहरसा से 12वीं की पढ़ाई पूरी करी और उसके बाद उन्होंने कोलकाता के एडवांस यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रॉनिक ब्रांच में बैचलर ऑफ टेक्नीशियन की डिग्री हासिल करें। इसके बाद उन्होंने अपने btech के तीसरे साल में ही अमेरिका के स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस विशेषता करने वाले सुप्रभात अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और डियोलाइट से भी जुड़ गए।

+