आम जनता को मिलने वाली है बड़ी राहत महंगे पेट्रोल-डीजल से , 60 रुपए प्रति लीटर में चलने लगेंगी गाड़ियां, जानिए खबर का सच ?

भारत में पेट्रोल-डीजल के महंगे होने से आम लोगों को हो रही परेशानी पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर सरकार के अपने तर्क हैं। अक्सर कहा जाता है कि भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ने का मुख्य कारण यह है कि भारत को विदेशों से तेल आयात करना पड़ता है उसे लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए दूसरे देशों पर निर्भर रहना पड़ता है तो जब वहां कीमतें बढ़ती हैं, तो भारत के पास कुछ भी नहीं बचा है और भारत तेल खरीदने के लिए मजबूर है जो लोगों के लिए पेट्रोल या डीजल महंगा करता है लेकिन अब एक और विकल्प खोजने की बात हो रही थी और कहीं यह दावा किया जा रहा है कि भारत में पेट्रोल और डीजल का दूसरा विकल्प खोज लिया गया है।

 

केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के चलते फ्लेक्स फ्यूल को विकल्प के तौर पर बढ़ावा देने की बात कही है। सरकार का दावा है कि इस ईंधन से वाहनों का इस्तेमाल उसी तरह किया जा सकता है जैसे पेट्रोल और डीजल का इस्तेमाल किया जाता है इसकी कीमत लगभग 50 से ₹60 प्रति लीटर होगीइससे लोगों को महंगे पेट्रोल-डीजल से छुटकारा मिलेगाक्योंकि इसका उत्पादन भारत में होगा

 

सरकार ने दावा किया है कि 6 महीने के अंदर फ्लेक्स फ्यूल बाजार में उतारा जाएगा और कुछ फीसदी पेट्रोल-डीजल की जगह इसका इस्तेमाल किया जाएगा सरकार की यह योजना कितनी कारगर साबित होती है यह तो वक्त ही बताएगा लेकिन यहां देखने वाली बात यह है कि भारत से आयातित पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स की वजह से इसका रेट इतना ज्यादा हो जाता है अगर इस पर भी टैक्स लगता है तो पेट्रोल-डीजल से भी महंगा हो जाएगा ये ईंधन

 

फ्लेक्स-फ्यूल आपको इथेनॉल के साथ मिश्रित ईंधन पर अपनी कार चलाने की अनुमति देता है। आपको बता दें, फ्लैक्स-ईंधन गैसोलीन और मेथनॉल या इथेनॉल के संयोजन से बना एक वैकल्पिक ईंधन है। एक फ्लेक्स-इंजन मूल रूप से एक मानक पेट्रोल इंजन है, जिसमें कुछ अतिरिक्त घटक होते हैं जो एक से अधिक ईंधन या मिश्रण पर चलते हैं। इसलिए, इलेक्ट्रिक वाहनों की तुलना में फ्लेक्स इंजन कम लागत पर निर्मित होते हैं। इस पर सरकार तेजी से काम कर रही है। केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के मुताबिक अगले छह महीने में एथेनॉल शुरू हो जाएगा।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *