एक जंगली बंदर ने लिया एक कुत्ते के बच्चे को गोद, करी उसकी देखरेख बिल्कुल मां-बाप की तरह और दी उसे नई जिंदगी……….

आजकल धीरे-धीरे मानो इंसानियत खत्म नहीं होती जा रही है यहां यह बात आप सभी लोगों को बहुत ही अच्छे ढंग से पता होगी क्योंकि वहां सब बातें आप सभी रोजाना अपने जीवन में महसूस कर रहे होंगे आज इंसान ऐसे हो चुके हैं कि वह एक दूसरे के दर्द को नहीं समझते और केवल अपने फायदे के लिए कुछ भी कर देते हैं लेकिन आज हम आपको दिखाने के बारे में बताने वाले हैं उसे सुनने के बाद आप सोचने पर मजबूर हो जाओगे ,कि आखिर इंसान किस राह पर चल पड़ा है और उसके भविष्य में क्या होगा। यह घटना दक्षिण भारत की है जहां पर एक बंदर एक कुत्ते के बच्चे को बचाने के लिए पूरा प्रयास करता है और उसका जीवन बचाता है इंसान भले ही दूसरे के दुश्मन बन जाए लेकिन ऐसा जानवर जो बिना कुछ कहे भी कितना कुछ कह जाते हैं कि इंसान के लिए इतनी बड़ी सीख बन जाती है जिसका कोई तुलना या फिर मूल नहीं कहा जा सकता वह इंसान को ऐसी बातें सिखा देते हैं जो शायद भूल चुके हैं और धीरे-धीरे समाज से इंसानियत गायब होती जा रही है या उस पर एक तमाचा है मानो।

बंदर द्वारा उस बच्चे को गोद लिया गया और उस बंदे ने उसकी तब तक देखभाल करें जब तक कि वहां व्यस्त नहीं हो गया और अपने पैरों पर सही तरीके से खड़े होकर चलने लगा उसने हर बार कोशिश करें जो कि भाग कर सकता था मनोज बंदर ने उसे गोद ले लिया हो इतना ही नहीं वहां बंदर उस छोटे से कुत्ते के बच्चे की रक्षा भी करता था जब जरूरत पड़ती थी तो इसीलिए उस बंदर के चलते कोई भी बड़ा कुत्ता छोटे से बच्चे को परेशान करने के लिए नहीं आ पाया और उसे एक नया जीवन मिला इस दुनिया में यह अनोखा दृश्य देखकर सभी लोगों की आंखें नम हो गई और वह सोचने लगे कि आखिर हम इंसान आखिर कर क्या रहे जब जानवर दूसरे जानवर का दर्द समझ सकता है तो हम तो फिर भी इंसान हैं तो हम क्यों नहीं कर सकते।

+