एक बुजुर्ग पिता को जब ठुकराया उसके दो बेटों ने, तो गुस्से में डीएम के नाम कर दी पूरे “दो करोड़” की प्रॉपर्टी और कहा कि………

अरे माता पिता का सपना होता है किसका बेटा बड़े होकर उसका नाम रोशन करें और उसके बुढ़ापे में उसका सहारा बने लेकिन आज हम आप सभी लोगों को एक 88 साल के बुजुर्ग गणेश शंकर की कहानी सुनाने वाले हैं जिसे सुनने के बाद आपको भी रोना आ जाएगा बुजुर्ग गणेश शंकर को उनके बेटों ने ठुकरा दिया तो उन्होंने अपने 2 करोड रुपए की संपत्ति आगरा के जिलाधिकारी के नाम कर दी बुजुर्ग की मानें तो उनके दोनों बेटों उनका ख्याल नहीं रखते थे और उन्हें ताने दिया करते थे साथिया तूने दाने-दाने को मोहताज रखते थे उसी को मद्देनजर रखते हुए उनके पिता ने यह कदम उठाया।

भाइयों के साथ रहने के लिए हुए मजबूर

बुजुर्ग गणेश शंकर का कहना है कि वो अपने बेटों से परेशान है। उनके दोनों बेटे उनका ख्याल नहीं रखते है तो वह अपने बेटों को प्रॉपर्टी देकर क्या करें। कहा कि उनके बेटे पागल नहीं है पर पता नहीं किस दिमाग के हैं। वे मेरे लिए कुछ नहीं करते। मैं तो भाइयों के साथ ही रहता हूं। 88 वर्षीय बुजुर्ग गणेश शंकर आगरा जिले थाना क्षेत्र के पीपल मंडी के रहने वाले हैं और वह उम्र में बुजुर्ग होने के साथ ही थोड़े बीमार भी रहते हैं। रावत पारा चौराहे पर धमाकों की दुकान है और उनका तमाखू का काम काफी पुराना है वह यह काम जवानी से ही करते आ रहे हैं।

गणेश शंकर ने बताया कि उन्होंने अपने भाई नरेश शंकर पांडे रघुनाथ और अजय शंकर के साथ मिलकर बहुत पुराने समय में 1000 गज जमीन खरीद कर आलीशान घर बनवाया था और आज उस मकान की कीमत लगभग ₹13 करोड़ हो गई है जो कि काफी ज्यादा है। वक्त के साथ-साथ चारों भाइयों ने आपस में बंटवारा कर लिया और वर्तमान में उनके पास मकान का एक चौथाई हिस्सा है और वहां उसके अकेले मालिक हैं इसी कीमत लगभग ₹2 करोड़ बताई जा रही है या फिर उससे भी ज्यादा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *