एमबीए छोड़ शुरू किया था चाय का बिजनेस केवल 25 साल की उम्र में ही खड़ा कर दिया करोड़ों का व्यापार…………

असली व्यक्ति वही होता है जो असफलताओं को अपने लिए भविष्य की सीख मानकर आगे बढ़ता चला जाता है और अपने जीवन में कभी हार नहीं मानता और असफलताओं से मिली थी वह अपने भविष्य की कल्पना करता है असल में ऐसे ही व्यक्ति अपने सपने को साकार करने में सक्षम हो पाते हैं आज हम आप सभी लोगों को एक ऐसे युवक की कहानी सुनाने वाले हैं जिन्होंने जीवन में कभी हार नहीं मानी हो रहा है जिस मुकाम पर खड़े एक ही लाखों करोड़ों लोग उनके जैसा बनना चाहते हैं।

घर के किसान पृष्ठभूमि से आने वाले प्रफुल्ल बिलोरा की ख्वाहिश आई एम अहमदाबाद से एमबीए करने की थी लेकिन असफलता हाथ लगने के बाद उन्होंने उस प्लेन को पूरी तरीके से छोड़ दिया और मुंबई जैसी महानगरी में पैसे कमाने के लिए अपने पैर पसारने शुरू कर दिए और इधर उधर पैसे कमाने के जरिए ढूंढने लगे। लेकिन प्रफुल्ल का मन है ना बाद में आकर लगा यह उन्होंने मैकडॉनल्ड में नौकरी करने लगे और कुछ समय तक नहीं बताया 1 घंटे में ₹37 मिलते थे उस पर फूल रोजाना 12 घंटे काम करते थे लेकिन नौकरी करते हुए खुद के व्यापार करने का आइडिया आया उन्होंने तुरंत नौकरी छोड़ दी और अपने सपने को साकार करने में लग गए।

शुरुआती दिनों में चाय नहीं बिकने से परेशान प्रफुल्ल ने लोगों के पास जाकर चाय बेचना शुरू कर दिया। प्रफुल्ल वेल क्वालिफाइड पर्सन है, इसलिए उन्होंने इंग्लिश बोलने की तरकीब अपनाई। धीरे धीरे बिजनेस रफ्तार पकड़ी और रोजाना के 4000 से 5000 रूपए की बिक्री होने लगी और उन्होंने जॉब छोड़कर दुकान पर ही पूरा समय देना शुरू कर दिया। ‌लोकल में होने वाली इवेंट, म्यूजिकल नाइट व प्रोग्राम में “MBA चाय वाले’ की बुकिंग मिलने लगी। आज प्रफुल्ल नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर इवेंट में चाय स्टोर लगाते हैं। देशभर में इनके कई फ्रेंचाइजी खुल चुके हैं। अब विदेश में भी फ्रेंचाइजी खोलने की तैयारी है। लंदन में भी इसके नाम से आउटलेट है।

+