किन्नर बच्ची पैदा होने पर मां बाप ने छोड़ा अकेला ,लेकिन अब बच्चों को गोद लेकर कर रही हैं मदद

हमारे समाज में किन्नरों के लिए क्या स्थान है यह बात तो किसी से भी छुपी हुई नहीं है। बहुत सी जगहों पर तो इन्हें खूब सम्मान दिया जाता है और गभग हर एक जगह इन्हें बराबर सम्मान मिलता है। लेकिन जब किसी के घर में किन्नर पैदा होता है तो उनके साथ ज्यादातर अच्छा सलूक नहीं किया जाता है सरकार द्वारा इनके लिए अन्य प्रकार की स्कीम चलाई जा रही हैं। जिससे उनको फायदा तो हुआ है लेकिन अभी भी कुछ जगहों पर ऐसी स्थिति बनी हुई है जहां पर उन्हें उनका सम्मान नहीं मिलता और वहां पर उनकी जिंदगी जस की तस है।

आज हम आप लोगों को कैसे किन्नर की कहानी सुनाने वाले हैं जिसके माता पिता ने यह पता लगते ही उनकी संतान को छोड़ दिया और उन्होंने अपने दम पर अपनी पहचान बनाई और आज समाज में अपने साथ-साथ लाखों लोगों की मदद कर रही है।

करती हैं गरीब लड़कियों की पढ़ने में मदद

“जीनत “ने अपने जीवन में अनेकों प्रकार की कठिनाई है सही है और जब से उसके माता-पिता ने छोड़ा है उसके बाद से कभी भी उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देगा। जीनत अब 70 साल की हो चुकी हैं लेकिन आज भी जब उनके माता-पिता का जिक्र होता है तो उनकी आंखें नम हो जाती हैं जहां एक और जीनत लोगों के घर में लड़कियों के जन्म देने पर शगुन देती हैं। तो वहीं दूसरी ओर उन लड़कियों के पढ़ने लिखने के लिए और फीस से संबंधित क्षेत्रों में उनकी काफी मदद करती हैं। इतना ही नहीं वह अपने जीवन में गरीब लोगों की इलाज करने में भी मदद करती हैं इससे उनके मन को सुख की प्राप्ति होती है।

+