ट्रेन में पान के पत्ते बेचते थे ,लेकिन एक अनोखे आईडी के कारण बन गए 25 करोड़ के कंपनी के मालिक……….

PLAY DOWNLOAD

हर एक व्यक्ति को सफलता तक पहुंचने के लिए अनेकों प्रकार के कठिन मोड़ से होकर गुजरना होता है कुछ लोग उन मुद्दों पर हार मान जाते हैं तो कुछ लोग उन सभी परिस्थितियों को अपनी ताकत बनाकर आगे बढ़ते हैं और कुछ ऐसा कर दिखाते हैं जो लाखों लोगों के लिए प्रेरणा बन जाते हैं आज हम आप सभी लोगों को ऐसे ही शख्स के बारे में बताने वाले हैं जिन्होंने बचपन में अनेकों प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ा में पान के पत्ते बेचा करते थे और उसी से अपना गुजारा किया करते थे इसके अलावा उनके पास कोई साधन नहीं था लेकिन उन्होंने कुछ करना है तो उनके एक अनोखी आइडिया के कारण आज वह लगभग 25 करोड़ के कंपनी के मालिक हैं और अपने साथ-साथ लाखों और लोगों को भी रोजगार दे रहे हैं और उनके जीवन में मदद कर रहे हैं।

निखिल प्रजापति गांधी (Nikhil Prajapati Gandhi)

निखिल प्रजापति गांधी (Nikhil Prajapati Gandhi) जिनकी गिनती आज देश के सुप्रसिद्ध उद्योगपतियों में होती है। लेकिन यह सफलता उन्हें चुटकियों में नहीं मिली बल्कि इसमें उनका पूरा संघर्ष शामिल है। वह इतने गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे कि उनके पास ट्रेन से सफर करने के लिए पैसे तक नहीं होते थे कि ताकि वह आसानी से सफर कर सके।

PLAY DOWNLOAD

वैसे तो 80 के दशक में निखिल प्रजापति गांधी ने वाणिज्य से स्नातक की डिग्री हासिल की है। लेकिन उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था वह अपनी शिक्षा का उपयोग कैसे करें जिससे उनकी गरीबी दूर हो। उन्हें किसी से कोई सहायता नहीं मिल रही थी। तब काफी परिश्रम के बाद उन्होंने कुछ छोटे-मोटे काम करने शुरू किए। इसी दौरान उन्होंने कोलकाता से प्रसिद्ध बीटल (पान) के पत्ते को खरीदकर मुंबई में बेचना शुरू किया और इसी काम के सिलसिले में उन्हें हर महीने दो बार कोलकाता से मुंबई जाने के दौरान 30 घंटे का सफर ट्रेन में शौचालय के पास बैठकर तय करना पड़ता था, ताकि वह बीटल के पत्ते पर पानी का आसानी से छिड़काव कर सके जिससे पत्ते सूखे नहीं।

PLAY DOWNLOAD

अज वह लाखों लोगों के लिए रोल मॉडल बन चुके हैं और हर एक शब्द सुनने की तरह बनना चाहता है उनके हजारों लोग फैन हैं और उन्हीं की तरह आगे बढ़कर अपने जीवन में कुछ कर दिखाना चाहते हैं।

PLAY DOWNLOAD

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *