तीन बार हुई फेल फिर भी नहीं तोड़ पाई हिम्मत, चौथे प्रयास में IAS बनीं अंकिता, जानें सफलता की कहानी

अंकिता मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली हैं और उनके परिवार के कुछ सदस्य सिविल सर्विस में हैं। इसके अलावा, उनके पति भी एक IPS अधिकारी हैं। यही कारण था कि आईएएस अधिकारी बनने का उनका सपना बचपन से ही बना रहा।अंकिता बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थी और इंटरमीडिएट के बाद उसने दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से बीटेक की डिग्री हासिल की।

संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक मानी जाती है। हर साल लाखों उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल होते हैं, लेकिन कुछ ही सफल होते हैं। पिछले दिनों आयोग की ओर से 2020 सिविल सेवा परीक्षा का परिणाम जारी किया जा चुका है। इस परीक्षा में अंकिता जैन ने ऑल इंडिया रैंक 3 हासिल की है। लेकिन उनका यहां तक ​​पहुंचने का रास्ता काफी मुश्किलों भरा है।

अंकिता को यह सफलता चौथे प्रयास में मिली है और अब उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो गया है। कंप्यूटर साइंस से बीटेक करने के बाद उन्होंने कुछ समय प्राइवेट सेक्टर में काम किया, फिर यूपीएससी की तैयारी करने लगे। लेकिन उन्हें तीन कोशिशों में सफलता नहीं मिली। इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी और चौथे प्रयास में परीक्षा पास कर ली।

परिवार को मिला पूरा सहयोग

अंकिता मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली हैं और उनके परिवार के कुछ सदस्य सिविल सर्विस में हैं। इसके अलावा, उनके पति भी एक IPS अधिकारी हैं। यही वजह थी कि उनका बचपन का सपना आईएएस ऑफिसर बनने का था। अंकिता ने बचपन से ही पढ़ाई में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया और इंटरमीडिएट के बाद उन्होंने दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से बीटेक की डिग्री हासिल की। इसके बाद उन्हें एक कंपनी में नौकरी मिल गई और कुछ समय काम करने के बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी।

ऐसा था अंकिता का सफर

अंकिता ने साल 2017 में यूपीएससी की तैयारी शुरू की थी। वह पहले प्रयास में सफल नहीं हुआ, लेकिन दूसरे प्रयास में परीक्षा पास कर ली। इस बार उनकी रैंक अच्छी नहीं रही और इस वजह से उन्हें मनचाही आईएएस सेवा नहीं मिली। वह भारतीय लेखा सेवा में शामिल हो गई और साथ ही साथ यूपीएससी की तैयारी जारी रखी। तीसरे प्रयास में उन्हें सफलता नहीं मिली। आखिरकार चौथे प्रयास में ही उन्होंने आईएएस बनने का अपना सपना पूरा कर लिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.