दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस के सामने आए रिकॉर्ड तोड़ मामले; जानिए भारत के लिए मंडरा रहा है यह खतरा…

अफ्रीका में कोरोनावायरस: अफ्रीकी देशों में तेजी से फैल रहा है कोरोनावायरस उत्तरी अफ्रीकी देश मोरक्को में सोमवार शाम तक 949,732 मामले दर्ज किए गए हैं।

 

नई दिल्ली: अफ्रीका रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (अफ्रीका सीडीसी) ने कहा कि सोमवार शाम तक, अफ्रीका में कोविद -19 के पुष्ट मामलों की संख्या 86,38,595 तक पहुंच गई थी। अफ्रीकन यूनियन (एयू) स्पेशल हेल्थकेयर एजेंसी का कहना है कि पूरे महाद्वीप में मरने वालों की संख्या 2,22,827 है, और अब तक 8,089,604 मरीज इस बीमारी से उबर चुके हैं।

 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने अफ्रीकी सीडीएस के हवाले से कहा कि दक्षिण अफ्रीका, मोरक्को, ट्यूनीशिया और इथियोपिया सबसे ज्यादा मामलों वाले देशों में शामिल हैं। दक्षिण अफ्रीका ने लगभग 3 मिलियन मामलों के साथ अफ्रीका में सबसे अधिक कोविड मामले दर्ज किए, इसके बाद उत्तरी अफ्रीकी देश मोरक्को में सोमवार शाम तक 949,732 मामले दर्ज किए गए।

 

मामलों के संदर्भ में, अफ्रीका सीडीसी के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र है, इसके बाद महाद्वीप के उत्तरी और पूर्वी हिस्से हैं, जबकि मध्य अफ्रीका सबसे कम प्रभावित है। बता दें कि कोविड के ओमाइक्रोम वेरिएंट की पुष्टि सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में हुई थी जिसके बाद दुनिया के कई देशों ने दक्षिण अफ्रीका से आने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी थी।

 

जानकारी के मुताबिक पिछले 15 दिनों में एक हजार से ज्यादा लोग अफ्रीकी देशों से मुंबई पहुंच चुके हैं. अफ्रीका में ओमाइक्रोम मामलों के मामले में विदेशों से आने वाले लोगों की कोरोना की जांच करना और रिपोर्ट आने तक उन्हें क्वारंटाइन करना और भी जरूरी हो जाता है. अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई पहुंचे 1000 लोगों में से सिर्फ 466 लोगों को ही लिस्ट किया गया है.

 

केंद्र सरकार ने सोमवार को दक्षिण अफ्रीका समेत अन्य देशों में कोरोना वायरस के एक नए संस्करण ओमाइक्रोन की खोज के बाद यात्रा परामर्श जारी किया। सरकार ने भारत आने वाले सभी यात्रियों को जरूरी प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी है।

 

+