पाकिस्तान-चीन ने लांघी सीमा तो खैर नहीं! भारत करेगा अमेरिका से 30 प्रीडेटर ड्रोन्स का सौदा

भारत सरकार अपनी सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए 3 अरब अरब की लागत से 30 सशस्त्र ड्रोन खरीदने की योजना बना रही है। प्रीडेटर ड्रोन की खासियत की बात करें तो यह कई खूबियों से लैस है।

 

जनरल एटॉमिक्स के प्रमुख से मिलेंगे पीएम मोदी

 

भारत अमेरिका से खरीदेगा 30 प्रीडेटर ड्रोन

 

शत्रुओं पर नजर रखना होगा आसान

 

नई दिल्ली: भारत की सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए अमेरिका से 30 प्रीडेटर ड्रोन खरीदने पर चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 सितंबर को वाशिंगटन में चार शीर्ष अमेरिकी कंपनियों के सीईओ के साथ मुलाकात की.प्रमुख से भी मुलाकात करेंगे. बता दें कि पीएम मोदी अमेरिका के तीन दिवसीय दौरे पर वाशिंगटन पहुंचे हैं और उनका आज (23 सितंबर) भारतीय समयानुसार शाम 7 बजे चार शीर्ष अमेरिकी कंपनियों के सीईओ से मिलने का कार्यक्रम है।

 

इन कंपनियों के सीईओ से करेंगे पीएम मोदी!

हिंदुस्तान टाइम्स ने वाशिंगटन स्थित सूत्रों के हवाले से बताया है कि पीएम नरेंद्र मोदी चारों सीईओ से आमने-सामने मुलाकात करेंगे. वे सभी प्रमुख कंपनियां हैं जो अपने-अपने क्षेत्रों में अग्रणी हैं। जनरल एटॉमिक्स के प्रमुख क्वालकॉम सेमीकंडक्टर के प्रमुख, ब्लैकरॉक ग्लोबल इनवेस्टमेंट कंपनी के सीईओ, फर्स्ट सोलर (गैर-पारंपरिक ऊर्जा नेता) और एडोब (सॉफ्टवेयर में यूएस लीडर) के साथ मुलाकात करेंगे।

 

सीमा पर दुश्मनों के लिए अच्छा नहीं

सूत्रों के मुताबिक, भारत सरकार अपनी सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए 3 अरब अरब की लागत से 30 सशस्त्र ड्रोन खरीदने की योजना बना रही है। इस योजना के तहत भारत की तीनों सेनाओं के लिए 10-10 MQ-9 रीपर ड्रोन खरीदे जाएंगे। अमेरिका से ड्रोन खरीदने से भारतीय सेना की ताकत बढ़ेगी और सीमा पर दुश्मनों पर नजर रखना आसान हो जाएगा।

 

प्रीडेटर ड्रोन की विशेषताएं

 

प्रीडेटर ड्रोन की खासियत की बात करें तो यह कई खूबियों से लैस है। यह ड्रोन 9 हार्ड पॉइंट के साथ आता है और लगभग 27 घंटे तक हवा में रह सकता है। ड्रोन हवा से जमीन पर मार करने वाले सेंसर और लेजर गाइडेड बम ले जाने की क्षमता से लैस है। यूएवी 50 हजार फीट की ऊंचाई पर काम करेगा।

 

+