भारत के पंतप्रधान नरेंद्र मोदी ने लिए तीन कृषि कानून वापिस! आंदोलनकारी अपने घर जाएं और अपने काम करें

भारत सरकार ने तीन कृषि कानूनों को लागू करने की बात कही है और जिसके खिलाफ किसान लगभग एक साल से आंदोलन कर रहे हैं, मोदी जी ने तीन कृषि कानूनों को आज वापस करने की बात कही है। आज के संवाद में मोदी जी ने कही ये बड़ी बात। मोदी जी ने कहा है कि वे किसानों को समझाने में असमर्थ थे। कुछ किसान अपने कृषि कानूनों को नहीं समझ पाए तो उन्होंने इन तीन कृषि कानूनों को वापस ले लिया। साथ ही मोदी जी ने यह भी कहा कि छोटे किसानों के लिए वे और प्रयास करते रहेंगे। इसके अलावा मोदी जी ने सरकार द्वारा किए गए किसानों के कार्यों को भी गिना। उन्होंने आंदोलन कर रहे किसानों से आंदोलन छोड़कर अपने घर जाने की अपील की है.

 

मोदी जी ने कहा है कि वह इस कानून को वापस लेने की संवैधानिक औपचारिकताएं जल्द ही पूरी करेंगे। मोदी जी के इस फैसले से खुश दिख रहे किसान। क्योंकि उन्होंने इस आंदोलन को लंबा समय दिया है। इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी मोदी द्वारा तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया अदा किया है। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी मोदी जी को धन्यवाद दिया है।

 

तीन कृषि कानून वापस लिए जाने के बाद आंदोलन और तेज होना तय है। आने वाले समय में उत्तर प्रदेश में चुनाव है। पंजाब में भी होने वाले हैं चुनाव। इन तीन कृषि कानूनों को वापस लेने का इन दोनों राज्यों पर अब क्या असर। समय ही बताएगा। लेकिन पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पहले ही कह चुके थे कि अगर तीन कृषि कानून वापस लिए गए तो वह पंजाब में बीजेपी का समर्थन करेंगे।

 

पीएम मोदी ने कहा कि कानून तो वापस लिए जा रहे हैं लेकिन इतनी पवित्र चीज, पूरी तरह से शुद्ध, किसानों के हित की बात, हम अपने प्रयासों के बावजूद कुछ किसानों को समझा नहीं पाए। कृषि अर्थशास्त्रियों, वैज्ञानिकों, प्रगतिशील किसानों ने भी उन्हें कृषि कानूनों के महत्व को समझाने की पूरी कोशिश की।

 

+