भारत के सबसे बड़े दानवीर एक्टर थे पुनीत राजकुमार ! जानिए कितने अनाथ आश्रम स्कूल गौशाला वृद्ध आश्रम चलाते थे वह…

कन्नड़ अभिनेता पुनीत राजकुमार ने कल दुनिया को अलविदा कह दिया और उसके बाद सारा समय साउथ इंडस्ट्री के साथ गम में डूब गया लेकिन पुनीत राजकुमार जितने बड़े अभिनेता थे उतने ही बड़े इंसान भी हो रहे हैं। कन्नड़ फिल्मों के महानायक पुनीत राजकुमार असल जिंदगी में एक महान नायक थे। उनका काम देखें।

 

 45 मुफ्त स्कूल, 26 अनाथालय, 16 वृद्धाश्रम, 19 गौशाला

1800 बच्चों की निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था स्वयं करते थे । इसके अलावा, उन्होंने मरने से पहले अपनी आंखें दान करने का फैसला किया था। कल डॉक्टरों की एक टीम ने 6 घंटे के अंदर हटाई उनकी आंखें। पुनीत राजकुमार के पिता थे डॉक्टर। उन्होंने अपनी आंखें भी दान कर दी थीं, लेकिन पुनीत राजकुमार ने भी इससे प्रेरित होकर अपनी आंखें दान करने का फैसला किया था।

 

इसलिए समाज में कुछ लोगों की हाइट ज्यादा होती है। क्योंकि वो लोग समाज के लिए जरूरी हैं। जब इतने अच्छे लोग दुनिया से चले जाते हैं और वो भी इतनी कम उम्र में। यह समाज और देश के लिए भी बहुत बड़ी क्षति है।

 

पुनीत राजकुमार का निधन हो गया है। लेकिन वह हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा रहेंगे। लोग उनके लिए हमेशा सम्मान रखेंगे। विशेष रूप से पुनीत राजकुमार हमेशा उन लोगों की यादों में रहेंगे जिनके लिए उन्होंने अच्छे काम किए हैं।

 

पुनीत राजकुमार ने रखा अपनी फिटनेस का बहुत ख्याल। उन्हें देखने से पता चलता है कि वह कितने फिट थे। 40 की उम्र में भी दिखते थे जवान। लेकिन कुदरत ने कुछ और ही मंजूर किया। शुक्रवार की सुबह अचानक दिल का दौरा पड़ने से उनकी जान चली गई। उनकी मृत्यु के बाद पूरे राज्य में धारा 144 लागू कर दी गई थी। वो सिनेमाघर बंद थे। क्योंकि सरकार को डर था कि कहीं उनके प्रशंसक सड़क पर न आ जाएं।

+