मुंशी की छोटी सी नौकरी किया करते थे दादा जी, लेकिन पोता बना “टि्वटर का CEO”, कुछ इस प्रकार है इनकी कहानी…………

टि्वटर के सीईओ बनने के बाद से ही पराग अग्रवाल के जीवन के बारे में हर एक व्यक्ति को जानने की इच्छा है क्योंकि उन्होंने पूरे भारत का नाम रोशन किया है और एक और ऐसा भारत के बन कर दिखाया है जो कि विदेशी बड़ी कंपनी का सीईओ बना है और भारत का नाम रोशन किया है हम आप सभी लोगों को बताना चाहते हैं कि आखिर पराग अग्रवाल का पारिवारिक जीवन कैसा है और ट्विटर का सीईओ बनने के बाद से ही दुनिया भर में उनकी जमकर प्रशंसा की जा रही है और हर व्यक्ति उनकी तारीफ करते नहीं थक रहा है।

मुंशी की नौकरी किया करते थे पराग अग्रवाल के दादा जी

पराग के अलावा और बहुत से भारतीय भी मल्टीनेशनल कंपनियों के बड़े अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इसी कड़ी में हाल ही में टवीटर ने पराग अग्रवाल को कंपनी का सीईओ बनाया है। बता दें कि पराग ने उच्च शिक्षा हासिल की है, मगर उनके दादा ने कड़ा संघर्ष कर अपने परिवार को इस मुकाम तक पहुंचाया है। आज उनके पिता से लेकर दादा तक के जीवन संघर्ष को हर कोई जानना चाह रहा है। बताया जाता है कि मूलरूप से राजस्थान के रहने वाले पराग के दादा कभी मुंशी की नौकरी किया करते थे। इस छोटी सी नौकरी से ही उनके दादा ने अपने बच्चों को ऐसी परवरिश दी, जिसकी आज दुनिया भर में चर्चा हो रही है।

अगर हम आपको पराग अग्रवाल के बारे में बताएं तो उन्होंने आईआईटी मुंबई से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करें और उसके बाद ही वह स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस में डायरेक्टरी किया है स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट याहू जैसी बड़ी कंपनियों में इंटर्नशिप करें और अपना जौहर दिखाया इसके बाद से ही उनका करियर आगे बढ़ना शुरू हो गया और वह एक के बाद एक बुलंदिया चढ़ते चले गए।

+