मुनाफा कमाने के लिए “मार्केट में गधे की लीद से बन रहे किचन मसाला”, जानिए कैसे बना रहे लोगों का बेवकूफ

आजकल के युग में मार्केट में मुनाफा कमाने के लिए लोग बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो चुके हैं जिसके कारण वहां कम दिनों में ज्यादा पैसे कमाने की होड़ को मध्य नजर रखते हुए कुछ ऐसा काम कर लेते हैं जिसके जरिए लोगों की सेहत के साथ हुआ खिलवाड़ करने लगते हैं और जिसके परिणाम बहुत ही ज्यादा बुरे हो सकते हैं भविष्य में। कुछ इसी प्रकार की घटनाओं को अंजाम दे देते हैं।

आज हम आप सभी लोगों को बताने वाले हैं एक इसी प्रकार के गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है जो कि मुनाफा कमाने के चक्कर में गधे की लीद के जरिए बना रहा था किचन मसाला और वहां मसाला धड़ल्ले से बाजार में बिक भी रहा था। लोगों को इसकी मिलावट के बारे में जरा सी भी भनक नहीं लग रही थी।

हम आप सभी लोगों को बता देना चाहते हैं कि हाथरस की पुलिस ने यह कारनामा करके दिखाया है और इस गधे के लिए और एसिड से नकली मसाले तैयार करने वाली यह से जाली कंपनी का पर्दाफाश किया और इन सभी लोगों को जेल के हवाले कर दिया। हाथरस के नवीन पुर में चल रहे इस नकली मसाले बनाने की कंपनी पर जब एफडीए की टीम ने छापा मारा तो उन्हें यहां सबूत के साथ सभी गुनहगारों को पकड़ा इसके साथ ही पुलिस को वहां पर भारी मात्रा में नकली मसाले तैयार करने के सामान भी बरामद हुए।

सभी गुनहगारों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है इसके साथ ही उन्होंने फैक्ट्री में मौजूद सामान में से 27 से अधिक वस्तुओं की सैंपल लेकर उन्हें टेस्ट के लिए लैब भेज दिया है ताकि और भी ज्यादा चीजें निकल कर सामने इसके साथ ही पुलिस लेफ्ट की रिपोर्ट आने का वेट कर रही है और रिपोर्ट के आने के बाद ही सुरक्षा नियमों के तहत उन सभी गुनहगारों के ऊपर रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी छापेमारी के दौरान पुलिस को भारी मात्रा में नकली मसाले तैयार करने की सामग्री बरामद हुई जिसमें मुख्य तौर पर गधे की लीड, भूसा, और एसिड के ड्रम शामिल है।

इसके साथ ही छापेमारी के दौरान पुलिस को भारी मात्रा में नकली मसाले जैसे कि धनिया लाल मिर्च हल्दी गरम मसाला जैसी और भी ज्यादा वस्तुएं बरामद हुई खाद विभाग के अनुसार यह एक ऐसी चीजें हैं जो भी सीधा सीधा लोगों के सेहत के साथ खिलवाड़ करेगी और इसके सेवन से उनको आने वाले समय में काफी प्रकार की हानिकारक बीमारियां भी हो सकती हैं जिसका खामियाजा उन्हें भविष्य में भुगतना पड़ सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *