मेजर डी पी सिंह ने कारगिल जंग में खो दिया था एक पैर, ब्लेड रनर के बाद अब बने स्काई डाइवर

कभी हार न मानने वाले कारगिल युद्ध के नायक मेजर डीपी सिंह का पूरा जीवन देश के नाम रहा। सेना में रहते हुए उन्होंने कारगिल में अहम भूमिका निभाई। इस युद्ध में न केवल उनके शरीर के कई अंग घायल हुए थे बल्कि उनका एक पैर भी टूट गया था। जब मेजर को बाद में अस्पताल में भर्ती कराया गया, तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया लेकिन बाद में फिर से जीवित हो गए। यह 15 जुलाई 1999 था, जिसे मेजर अपना पुनर्जन्म मानते हैं। आत्मविश्वास से भरे मेजर ने कभी हार नहीं मानी। उनकी हिम्मत देखकर सेना ने उन्हें एक कृत्रिम पैर (ब्लेड प्रोस्थेसिस) दिलवाया, जिसकी कीमत करीब साढ़े चार लाख रुपये है। मेजर के बाद वे ब्लेड रनर बने। अब उन्होंने एक और उपलब्धि हासिल की है और एक स्काई डाइवर के रूप में अपनी पहचान बनाई है। उन्हें प्रथम भारतीय ब्लेड मैराथन धावक के रूप में भी जाना जाता है। हाल ही में मेजर ने नासिक में आयोजित “स्पिरिट ऑफ एडवेंचर” में स्काई डाइविंग की है। मेजर ने एक पैर वाली स्काई डाइविंग के जरिए आसमान की यात्रा की है और अब वह स्काई डाइवर भी बन गए हैं। जानिए डीपी सिंह का मेजर, ब्लेड रनर से स्काई डाइवर तक का सफर कैसा रहा।

 

डीपी सिंह को भारतीय सेना द्वारा स्काई डाइविंग का प्रशिक्षण दिया गया था। “स्पिरिट ऑफ एडवेंचर” कार्यक्रम के दौरान सभी विकलांग सैनिकों को स्काई डाइविंग का प्रशिक्षण दिया गया। ब्लेड रनर डीपी सिंह ने सफलतापूर्वक आकाश में उड़ान भरी और एक बार फिर अपने अदम्य साहस का परिचय दिया।

 

मेजर डीपी सिंह ने साबित कर दिया कि “जिंदगी रखने वालों में मंजिल ही सच होती है, पंखों से कुछ नहीं होता, हिम्मत से उड़ान होती है।” मेजर डीपी सिंह जैसे सैनिकों पर ये पंक्तियाँ एकदम फिट बैठती हैं।

 

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत से अनुमति मिलने के बाद मेजर डीपी सिंह को 18 मार्च से स्काई डाइविंग का प्रशिक्षण दिया गया था। उन्होंने एक बार फिर से जोश जगाया और एक बार फिर विकलांगों के लिए प्रेरणा स्रोत बने।

 

मौत के बाद फिर से जी उठने वाले योद्धा मेजर डीपी सिंह अब रोल मॉडल बन गए हैं। मेजर का कहना है कि बचपन से लेकर अब तक जब भी उन्हें अवमानना ​​का सामना करना पड़ा, कठिनाइयों के कारण हार न मानने का उनका साहस और दृढ़ संकल्प और मजबूत हो गया। ब्लेड रनर के अनुभव के बारे में बताते हुए मेजर कहते हैं कि दौड़ने के दौरान ऐसे कई मौके आए जब उन्हें अत्यधिक दर्द हुआ। उसके शरीर में इतने घाव थे कि दौड़ते समय उसके पैरों से खून निकलने लगा लेकिन उसने कभी हार नहीं मानी और पहले बस दौड़ा, फिर तेज दौड़ा और फिर दौड़ने लगा।

 

लगातार तीन बार मैराथन दौड़ चुके मेजर सिंह ने कहा कि उन्हें सेना ने कृत्रिम पैर दिया था, जिसे हम ‘ब्लेड प्रोस्थेसिस’ कहते हैं। मेजर के पैर से जुड़ा प्रोस्थेटिक लेग भारत में नहीं बल्कि पश्चिमी देशों में बनता है। इन पैरों की ऊंची कीमत देखकर मेजर का कहना है कि सरकार को भारत में ऐसी तकनीक और डिजाइन से पैर बनाने पर विचार करना चाहिए। मेजर ने 2009 में कृत्रिम पैर पर चलना सीखा था।

 

दो बार लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज करा चुके मेजर सिंह को विकलांग, शारीरिक रूप से अक्षम या विकलांग कहे जाने पर कड़ी आपत्ति है.

 

वह खुद को और अपने जैसे अन्य लोगों को ‘चैलेंजर्स’ कहना पसंद करते हैं। इसलिए वह अपने जीवन में एक के बाद एक चुनौतीपूर्ण कार्य करते हैं।

 

मेजर डीपी सिंह ऐसे लोगों के लिए एक संगठन चला रहे हैं – ‘द चैलेंजिंग वन्स’ और कृत्रिम अंगों के माध्यम से धावक बनने के लिए किसी भी कारण से अपने पैर खोने वाले लोगों को प्रेरित करना। वे जीवन की सबसे कठिन परिस्थिति का सामना करने और इसे एक चुनौती के रूप में लेने के लिए तैयार हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *