लगानी पड़ी क्रेन! भारतीय मछुआरों को मिली 2 टन वजनी की बड़ी दैत्‍याकार मछली! जानिए कहा की है ये घटना…

समुद्र एक ऐसी जगह है जहाँ प्रकृति नहीं जानती कि क्या छिपा है। इस बात से अभी दुनिया अनजान है। अगले दिन समुद्र से क्या निकलता है। जो दुनिया को हैरान कर देता है समुद्र की दुनिया रहस्यमयी और रोमांचक। अफ्रीका में मछुआरों को मिली 2 टन वजनी मछली। दो टन यानी 2000 किलो। हालांकि सोशल मीडिया पर यह खबर फैलाई जा रही है कि भारतीय मछुआरों को यह मिल गया है। लेकिन ये खबर भारत की नहीं अफ्रीका की है। अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि 2000 किलो की एक मछली को समुद्र से बाहर निकालना कितना मुश्किल होगा। इस मछली को भी बाहर निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। बताया जा रहा है कि इस मछली को निकालने के लिए क्रेन का इस्तेमाल किया गया था।

 

यह घटना उत्तरी अफ्रीका के सेउटा बीच की है। इस मछली के विशाल आकार और 2000 किलो वजन के कारण इसे एक क्रेन द्वारा उठाया गया था। कहा जाता है कि यह मछली 3 मीटर लंबी होती है। ये है सैनफिश प्रजाति की मछली।

 

विशेषज्ञ ने कहा कि यहाँ इस प्रकार की भारी मछलियाँ निकलती हैं। यह मछली उस प्रजाति द्वारा नहीं खाई जाती है जिससे इसे प्राप्त किया जाता है। इस प्रजाति की बहुत कम मछलियाँ जीवित रहती हैं। विलुप्त होने के कगार पर है यह प्रजाति। विशेषज्ञ ने कहा कि जब उन्हें यह मछली मिली तो उन्होंने सोचा कि इसका वजन करीब एक हजार किलो होगा। जब इसका वजन किया गया तो यह लगभग 2000 किलो था।

 

इस मछली की त्वचा गहरे भूरे रंग की थी और इसका सिर प्रागैतिहासिक काल जैसा दिखता था। एनरिक ने कहा, ‘मैं दंग रह गया। हमने ऐसी मछली के बारे में पढ़ा था लेकिन कभी नहीं सोचा था कि हमें कभी ऐसी मछली को छूने का मौका मिलेगा। हालांकि यह तनावपूर्ण था। आप एक नाव पर हैं जो समुद्र के बीच में है और एक क्रेन विशालकाय प्राणी को जीवित उठा रही है। हम एक पल भी नहीं चूके और हादसों को टाला।’ इस मछली को 4 अक्टूबर को वापस पानी में डाल दिया गया था। यह मछली पानी में करीब 700 मीटर तक रहती है।

 

पहले इस मछली को जहाज में बने वाटर चैंबर में रखा गया था। यह विशेषज्ञों द्वारा फोटो खींचा गया था और मापा और तौला गया था। इस मछली को फिर समुद्र में छोड़ा गया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *