सेना में अफसर बना भोपाल का बेटा, सुनिए लेफ्टिनेंट की बातें.. कैसे कोरोना ने बदल दी सेना की आदतें

PLAY DOWNLOAD

भोपाल (मध्य प्रदेश)। कोरोना की तबाही के बीच भोपाल के एक दुबे परिवार के लिए खुशखबरी है। जहां उनका बेटा भारतीय सैन्य अकादमी में एक साल के कठोर प्रशिक्षण के बाद भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन गया है। लेकिन उन्हें इस बात का दुख है कि वह अपने बेटे की पासिंग आउट परेड में शामिल नहीं हो सके. हालांकि परिवार ने नेशनल टीवी पर कार्यक्रम को लाइव देखा।

 

 

दरअसल, भोपाल निवासी अनुज दुबे का पिछले साल यूपीएससी से एनडीए खड़गवासला के लिए चयन हुआ था। इसके लिए उन्होंने एक साल का प्रशिक्षण भी पूरा कर लिया है। जहां वह शनिवार को भारतीय सेना की ओर से पासिंग आउट परेड में शामिल हुए। जिसके बाद सेना के अधिकारियों ने अनुज के कंधों पर तारे बिठा दिए। इस प्रकार वह आर्टिलरी रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट बन गया।

दरअसल, भोपाल निवासी अनुज दुबे का पिछले साल यूपीएससी से एनडीए खड़गवासला के लिए चयन हुआ था। इसके लिए उन्होंने एक साल का प्रशिक्षण भी पूरा कर लिया है। जहां वह शनिवार को भारतीय सेना की ओर से पासिंग आउट परेड में शामिल हुए। जिसके बाद सेना के अधिकारियों ने अनुज के कंधों पर तारे बिठा दिए। इस प्रकार वह आर्टिलरी रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट बन गया।

PLAY DOWNLOAD

बता दें कि भोपाल की गुलमोहर कॉलोनी में रहने वाले दुबे परिवार के दो बेटे एक साल के भीतर सेना में चयनित हो गए हैं. पिछले साल अभिलाष दुबे के बेटे आदित्य दुबे भी आर्टिलरी रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट बने थे। तो इस साल अनुपम और अंजू दुबे के बेटे अनुज भी लेफ्टिनेंट बने हैं। आदित्य जहां फिलहाल सिक्किम में तैनात हैं, वहीं अनुज को सीधे सियाचिन में तैनात किया जा रहा है।

PLAY DOWNLOAD

बता दें कि भोपाल की गुलमोहर कॉलोनी में रहने वाले दुबे परिवार के दो बेटे एक साल के भीतर सेना में चयनित हो गए हैं. पिछले साल अभिलाष दुबे के बेटे आदित्य दुबे भी आर्टिलरी रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट बने थे। तो इस साल अनुपम और अंजू दुबे के बेटे अनुज भी लेफ्टिनेंट बने हैं। आदित्य जहां फिलहाल सिक्किम में तैनात हैं, वहीं अनुज को सीधे सियाचिन में तैनात किया जा रहा है।

PLAY DOWNLOAD
PLAY DOWNLOAD

एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में अनुज ने कहा, ‘आईएमए के 87 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि कैडेट के माता-पिता ने इस परेड में हिस्सा नहीं लिया. अनुज ने कहा- मैं एक साल से सोच रहा हूं कि मेरे माता-पिता आएंगे और मेरे कंधों पर सितारे रखेंगे। लेकिन कोरोना वायरस ने सभी सपनों को उल्टा कर दिया जिससे मम्मी-पापा और परिवार के लोग यहां नहीं आ पाए। खैर कोई बात नहीं आर्मी ऑफिसर और मैडम ने मेरे कंधों पर एक स्टार रख दिया। अनुज का कहना है कि पासिंग परेड के बाद 15-20 दिन की छुट्टी दी जाती है, ताकि वह अपने परिवार से मिल सकें। लेकिन इस बार तैनाती सीधे तौर पर कोरोना वायरस के चलते दी जा रही है.

एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में अनुज ने कहा, ‘आईएमए के 87 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि कैडेट के माता-पिता ने इस परेड में हिस्सा नहीं लिया. अनुज ने कहा- मैं एक साल से सोच रहा हूं कि मेरे माता-पिता आएंगे और मेरे कंधों पर सितारे रखेंगे। लेकिन कोरोना वायरस ने सभी सपनों को उल्टा कर दिया जिससे मम्मी-पापा और परिवार के सदस्यों का यहां आना बंद हो गया। खैर कोई बात नहीं आर्मी ऑफिसर और मैडम ने मेरे कंधों पर एक स्टार रख दिया। अनुज का कहना है कि पासिंग परेड के बाद 15-20 दिन की छुट्टी दी जाती है, ताकि वह अपने परिवार से मिल सकें। लेकिन इस बार तैनाती सीधे तौर पर कोरोना वायरस के चलते दी जा रही है.

अनुज ने कहा- परेड पास करते समय हर जवान ने ग्लव्स और चेहरे पर मास्क पहना हुआ था। पहले परेड के लिए 10 ग्रुप बनाए गए थे और दोनों कैडेट्स के बीच की दूरी 0.5 मीटर थी, लेकिन इस बार दोनों कैडेट्स के बीच 2 मीटर की दूरी थी। कोरोना संक्रमण को देखकर किया गया ऐसा बदलाव (अनुज मां और भाई अंकुर दुबे के साथ)

अनुज ने कहा- परेड पास करते समय हर जवान ने ग्लव्स और चेहरे पर मास्क पहना हुआ था। पहले परेड के लिए 10 ग्रुप बनाए गए थे और दोनों कैडेट्स के बीच की दूरी 0.5 मीटर थी, लेकिन इस बार दोनों कैडेट्स के बीच 2 मीटर की दूरी थी। इस तरह के बदलाव कोरोना संक्रमण को देखते हुए किए गए हैं।

अनुज ने कहा- मेरी सफलता के पीछे मेरे बड़े भाई अंकुर का हाथ है। बचपन में हम दोनों देशों पर बनी फिल्में एक साथ देखते थे तो भैया कहा करते थे अनुज तुम्हें भी आर्मी में अफसर बनना है। तभी सेना में जानने का जुनून आया और मैंने भी तय कर लिया कि अब मैं भी जाकर भारतीय सेना में रहूंगा। (अनुज दुबे, अपने चचेरे भाई आदित्य दुबे और मां के साथ।)

अनुज ने कहा- मेरी सफलता के पीछे मेरे बड़े भाई अंकुर का हाथ है। बचपन में हम दोनों देशों पर बनी फिल्में एक साथ देखते थे तो भैया कहा करते थे अनुज तुम्हें भी आर्मी में अफसर बनना है। तभी सेना में जानने का जुनून आया और मैंने भी तय कर लिया कि अब मैं भी जाकर भारतीय सेना में रहूंगा।

 

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *