सोते हुए जवानों पर 3 मिनट में दागे थे 17 ग्रेनेड, फिर आर्मी ने इस तरह हाई किया जोश, जानिए इनके साहस की कहानी !

वह 18 सितंबर 2016 की सुबह थी। उस दिन उरी की हवा में ताजगी जरूर थी, लेकिन सन्नाटा भी था। इसी बीच आर्मी कैंप में जोरदार धमाका हुआ। अभी इसकी प्रतिध्वनि कानों से भी नहीं गई है कि फिर विस्फोट हो जाता है। 3 मिनट के अंदर 17 ग्रेनेड आर्मी कैंप पर हमला कर देते हैं.

 

उरी आतंकी हमले को आज 5 साल पूरे हो गए हैं

 

सोई हुई मुहरों पर हमला किया गया

 

नई दिल्ली: उरी टेरर अटैक: पठानकोट टेरर अटैक के सदमे से अभी भी देशवासी पूरी तरह से उबर नहीं पाए थे कि एक बार फिर आतंकी कायराना हरकत कर रहे हैं. इस बार उनका निशाना जम्मू-कश्मीर के उरी में स्थित भारतीय सेना का 12वां ब्रिगेड मुख्यालय है। सीमा पार से आए आतंकियों ने सुबह करीब साढ़े पांच बजे उरी आर्मी कैंप पर हमला कर दिया। भारतीय सेना को निशाना बनाकर किए गए इस हमले को ठीक 5 साल हो चुके हैं।

 

वह 18 सितंबर 2016 की सुबह थी। उस दिन उरी की हवा में ताजगी जरूर थी, लेकिन सन्नाटा भी था। इसी बीच आर्मी कैंप में जोरदार धमाका हुआ।

 

अभी इसकी प्रतिध्वनि कानों से भी नहीं गई है कि फिर विस्फोट हो जाता है। युवक एक और गूंज से उबर रहे हैं। 3 मिनट के अंदर 17 ग्रेनेड आर्मी कैंप पर हमला कर देते हैं.

 

2 दशकों में सबसे बड़ा हमला

 

हमले ने सेना के ईंधन डिपो में आग लगा दी। उसमें रखे पेट्रोल, डीजल और मिट्टी के तेल से बेकाबू आग ने 5 बिहार बटालियन के टेंट को अपनी चपेट में ले लिया.

 

इनमें सोए हुए 14 जवान शहीद होते हैं। इसी बीच कैंपों से आग से बचने के लिए भागते समय 4 जवान आतंकियों की गोलियों का शिकार हो जाते हैं. 30 से अधिक युवक घायल भी हुए हैं। यह लगभग 2 दशकों में भारतीय सेना पर सबसे बड़ा हमला था।

 

आतंकवादी हथियारों और गोला-बारूद से लैस थे

हथियारों और गोला-बारूद से लैस 4 आतंकवादी कहर ढाने की योजना बना रहे थे।

 

उसके पास एके-47 और करीब 50 आग लगाने वाले हथगोले थे। इसलिए रणनीति के तहत वे ईंधन डिपो पर हथगोले फेंकते हैं, ताकि आग से अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो जाए और वे अपने नापाक मंसूबों को अंजाम दे सकें. हालांकि, युवकों ने तेजी से हमले का बीड़ा उठाया। कुछ ही घंटों में चारों आतंकी ढेर कर दिए जाते हैं।

 

सीमा पार से आए आतंकी

चारों आतंकी सीमा पार से आए थे। वे झेलम नदी के रास्ते पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से उरी सेक्टर पहुंचे। उसकी साजिश पठानकोट की तर्ज पर हमला करने की थी। दरअसल, जनवरी 2016 में आतंकियों ने पठानकोट स्थित एयरफोर्स बेस पर हमला किया था। इसमें 7 जवान शहीद हो गए थे।

 

सुरक्षा चूक का उठाया फायदा

आतंकियों ने उरी में हमले के लिए एक समय चुना, जब वहां जवानों की ड्यूटी बदल रही थी। दरअसल, 2 साल पूरे करने के बाद एक बटालियन कैंप छोड़ देती है, जबकि दूसरी वहां पहुंच जाती है. उरी में भी जवानों की ड्यूटी बदल रही थी। डोगरा यूनिट को 5 बिहार बटालियन से बदला जाना था। जवानों की अदला-बदली चल ही रही थी कि 5 बिहार बटालियन के जवान टेंट में सो रहे थे, जबकि कई बैरक खाली थे. सुरक्षा में इस चूक का आतंकियों ने फायदा उठाया।

 

सर्जिकल स्ट्राइक से लिया गया बदला

आतंकियों की इस कायराना हरकत से सभी देशवासियों की आंखें नम हो गईं। पूरे देश में आक्रोश का माहौल था। हर कोई चाहता था कि पाकिस्तान प्रायोजित आतंकियों को सबक सिखाया जाए।

 

हमले के ठीक 10 दिन बाद 28-29 सितंबर की रात को सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी। भारतीय सेना ने 3 किमी के भीतर पीओके में घुसपैठ की और आतंकवादी ठिकानों को नष्ट कर दिया। सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए 38 आतंकियों को मार गिराया

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *