हरियाणा के एक किसान ने सबसे ज्यादा दूध पीकर जीता इनाम। एक बार में इतना दूध पिया कि सब के होश उड़ गए।

प्रतियोगिता का आयोजन 1 नवंबर यानी हरियाणा दिवस के अवसर पर खरखौदा में किया गया था। इस प्रतियोगिता में पुरस्कार राशि 51000 है। नियमानुसार यह इनामी राशि सबसे अधिक दूध पीने वाले को दी जानी थी।

 

इस प्रतियोगिता में ग्राम पुरखास के 58 वर्षीय सतबीर ने ₹5,100 का पुरस्कार जीता। उसने एक बार में 5 लीटर दूध पिया। सबसे ज्यादा दूध पीने वाला प्रतियोगिता में अव्वल रहा। हरियाणा के गांव मटिंडू निवासी हवा सिंह ने 3 किलो 800 ग्राम दूध पीकर दूसरा स्थान हासिल किया. तीसरे नंबर पर 3 किलो 500 ग्राम दूध पीकर सिसाना गांव के संदीप ने तीसरा स्थान हासिल किया.

 

हरियाणा के सोनीपत के खरखौदा में 1 नवंबर को जग उत्थान खेल शिक्षा समिति ने मिल्क ड्रिंक हेल्दी स्टे प्रतियोगिता का आयोजन किया. इस प्रतियोगिता में दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान के प्रतिभागियों ने भाग लिया। जबकि सोनीपत, रोहतक, जींद और झज्जर सहित राज्य के कई अन्य जिलों से प्रतिभागियों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में कुल 88 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

 

प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले ग्राम पुरखास के सतवीर ने बताया कि वह आमतौर पर घर में 3 से 4 किलो दूध पीता है, प्रतियोगिता में 5 किलो तक दूध पिया। उन्होंने यह भी कहा कि अगर यह प्रतियोगिता ठंडे दूध पीने की होती तो वह 2 किलो और दूध पी सकते थे। प्रतियोगिता में गर्म दूध पीने का निर्णय लिया गया।

 

पुरखास हरियाणा के सोनीपत जिले में एक बड़ी आबादी वाला गांव है। पुरखास गांव को पहलवानों का गांव भी कहा जाता है। इस गांव में लगभग हर कोई कुश्ती करता है। इस गांव ने कई अंतरराष्ट्रीय पहलवान दिए हैं। पुरखास गांव अक्सर अपनी कुश्ती को लेकर चर्चा में रहता है। इसके अलावा इस गांव की आबादी भी काफी ज्यादा है। यहाँ के एक गाँव में 2 पंचायत है । इसलिए चुने जाते हैं दो सरपंच।

 

ज्यादातर लोग जानवर रखते हैं। लेकिन उन्हें कुश्ती का शौक है। हर कोई चाहता है कि उसके बच्चे पहलवान बनें। यहां के बच्चे शुरू से ही खाने-पीने के शौकीन हैं। माता-पिता को शुरू से ही अपने बच्चों को सिर्फ दूध पिलाने की आदत।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *