हिमालय से आने वाली “सर्द हवाओं” के कारण इन राज्यों में कप-कंपा देने वाली ठंड मौसम ने बदले मिजाज

हिमालय से आने वाली सर्द हवाओं के कारण कई राज्यों में ठंड काफी बढ़ चुकी है और लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जिसमें सबसे ज्यादा ठंड का असर देखने को मिला है राजस्थान में और इसके अलावा भी कई और ऐसे राज्य थे जो कि इस ठंड की चपेट में है और वहां का तापमान देखते ही देखते नीचे गिरता चला जा रहा है और ठंड के कारण लोगों के बुरे हाल हैं।

वही सबसे बड़ी बात तो बीती रात फतेहपुर से आए जहां पर पारा शून्य के नीचे दर्ज किया गया और लोगों ने एक काफी ठंड भरी रात गुजारी वहीं मौसम विभाग ने अगले ही दिन कुछ और जिलों में भी पाला पड़ने वाली शीत लहर चलने की चेतावनी दे दी है और लोगों को सचेत रहने के निर्देश दे दिए हैं बिल्कुल भी डलवाना बढ़ती जाए अन्यथा अंजाम बुरा हो सकता है।

कुछ इस प्रकार देखे जा रही तापमान में गिरावट

मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान के अधिकांश हिस्सों में कड़ाके की सर्दी शुरू हो गई है,जहां बीते चौबीस घंटे में सीकर के फतेहपुर में न्यूनतम तापमान शून्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान राज्य के पिलानी में 1.1 डिग्री, नागौर में 3.3 डिग्री, सीकर में 5.5 डिग्री, बीकानेर 6.0 डिग्री, संगरिया में 6.0 डिग्री, गंगानगर में 6.5 डिग्री व ऐरनपुरा में 6.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

राजधानी जयपुर में मंगलवार रात न्यूनतम तापमान 12.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस दौरान राजस्थान के अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान 18.0 से 26.9 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया।मौसम विभाग द्वारा जारी की गई लिस्ट में 17 से 20 दिसंबर के बीच शीतलहर चलने की सख्त चेतावनी दी गई है जिसके चलते अलवर, सीकर, झुंझुनू, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़,जैसलमेर,श्रीगंगानगर एवं नागौर जिले में कुछ स्थानों पर शीतलहर और कड़ाके की ठंड देखी जाएगी।

मई 18 से 19 दिसंबर में भी मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि बीकानेर, हनुमानगढ़, झुंझुनू, सीकर व चूरू मैं काफी ठंड बरामहल होगा और शीतलहर चलने की चेतावनी दी है जिले में कहीं-कहीं पर पाला पड़ने की भी संकेत हैं और लोगों को ठंड से बचे रहने के निर्देश दिए गए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *