19 वर्ष की छोटी सी उम्र में “मैत्री पटेल” ने रचा इतिहास, बनी भारत देश की सबसे छोटी उम्र की पायलट

आज हम आप सभी दर्शकों को गुजरात के सूरत में रहने वाले एक छोटे से किसान के बेटी की कहानी सुनाने वाले हैं आजकल इस छोटे से किसान की बेटी पूरे भारतवर्ष में भारत का मान बढ़ाया है और पूरे भारत देश में आजकल काफी फेमस भी हो गई है 19 वर्षीय मैत्री पाटिल भारत देश की सबसे कम उम्र में पायलट बन चुकी है इससे पहले यह कारनामा किसी और ने नहीं करा है अपने पिता की इकलौती बेटी है ।

मैत्री पटेल को बचपन से पायलट बनने का शौक था इसीलिए उन्होंने ज्यादा पढ़ाई भी नहीं करी उन्होंने बारहवीं कक्षा के बाद ही पायलट की ट्रेनिंग के लिए विदेश चली गई जहां पर हमने उन्होंने दिन रात मेहनत करी और अपने सपने को पूरा करने के लिए पूरी निष्ठा के साथ काम करें मैथिली पाटील ने मीडिया कर्मी को इंटरव्यू के दौरान बताया था कि जब उनकी पढ़ाई के लिए पैसों की कमी पड़ गई थी तो उनके पिता ने बैंक से लोन मांगा था लेकिन लोन न मिलने के कारण उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा और उनके पिता के पास कोई और चारा नहीं था अपनी बेटी को पढ़ाने के लिए इसीलिए उन्होंने अपनी पुश्तैनी हवेली बेच दी और उन पैसों से अपनी बेटी की पढ़ाई पूरी कराई।

केवल 12 महीने में ही पूरी कर दिखाई पायलट की ट्रेनिंग

वैसे तो आमतौर पर पायलट की ट्रेनिंग पूरी करने के लिए किसी भी युवक या युवती को 18 महीने का समय लगता है। लेकिन मैत्री ने यह कारनामा 12 महीने में ही कर दिखाया जो कि काबिले तारीफ बात है जिससे यह पता चलता है कि उन्हें पायलट बनने की कितनी ज्यादा लगन थी इसके बाद उन्हें कर्म से प्लेन उड़ाने का लाइसेंस मिल गया है जो कि उनका सपना था। उन्होंने बताया कि जब वह 8 वर्ष की थी तभी से उनका सपना था कि वह पायलट बने और अपने जीवन में एक बार प्लीज जरूर थोड़ा और उन्होंने 19 वर्ष के छोटी सी उम्र में यह सपना पूरा कर दिखाएं।

+