यू.पी. : 5 कोरियाई कंपनियां करने जा रही हैं ग्रेटर नॉएडा में रूपये 1,154 करोड़ का निवेश, मिलेगा हज़ारों को रोज़गार

यह उत्तर प्रदेश राज्य के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है की उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में पांच कोरियाई कंपनियां अपना उत्पादन संयंत्र स्थापित करने जा रही हैं| यहां तक की इन कोरियाई कंपनियों द्वारा उत्पादन संयंत्र स्थापित करने के लिए 1,154 करोड़ रुपये का निवेश राज्य सर्कार को प्राप्त हो चुका है| इन कोरियाई कंपनियों ने शहर में अपने कारखाने स्थापित करने के लिए जमीन का अधिग्रहण कर लिया है, और इन ज़मीनों में उत्पादन संयंत्र का निर्माण बहुत जल्द किया जायेगा। आगे कहा गया है कि ये कंपनियां 8,706 युवाओं को रोजगार प्रदान करेंगी।

ग्रेटर नॉएडा में स्थापित होने जा रही हैं 5 कोरियाई कंपनियां, हज़ारों युवाओं को मिलेगा रोज़गार

इन कोरियाई फर्मों – समकवांग इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स, केएच वेटेक इंडिया, सेनेटेक इंडिया, ड्रीमटेक और स्टीरियो ने ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में 3.51 लाख वर्ग मीटर जमीन खरीदी है, और यही ये अपना उत्पादन संयंत्र खोलने जा रहे हैं।

जबकि समकवांग इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स 440 करोड़ की अनुमानित लागत से अपनी इकाई स्थापित कर रहा है, जिसमें 4,000 लोग काम कर सकेंगे, वहीँ केएच वैटेक इंडिया 247 करोड़ रुपये और सेंटेक इंडिया 34 करोड़ रुपये का निवेश अपनी इकाई स्थापित करने के लिए कर रही है जो 786 और 350 लोगों को रोज़गार का अवसर प्रदान करेगी|

कंपनियों की मदद से बनेगा ग्रेटर नॉएडा डेटा सेंटर हब

अन्य दो – ड्रीम टेक और स्टीरियो – ने 433 करोड़ की लागत से अपने संयंत्र स्थापित करने के लिए सेक्टर इकोटेक 10 में भूमि का अधिग्रहण कर लिया है, और ये दोनों कंपनियां 3,570 युवाओं को रोजगार देंगी। यूपी सरकार के अनुसार, दक्षिण कोरियाई कंपनियों के अलावा, चीनी स्मार्टफोन निर्माता ओप्पो, वीवो और फॉर्म ने भी पिछले साढ़े चार वर्षों में ग्रेटर नोएडा में भारी निवेश किया है।

सरकार ने कहा कि यह विवो और ओप्पो द्वारा क्रमशः 7,429 करोड़ रूपये और 2,000 करोड़ रूपये का निवेश है, जिसने दक्षिण कोरियाई फर्मों के हित को बढ़ाया है। यूपी सरकार ने कहा कि इन निवेशों से ग्रेटर नोएडा को डेटा सेंटर हब के रूप में उभरने में मदद मिलेगी।

 

+