डॉक्टर निधि ने पहले ही प्रयास में पास किया यूपीएससी एग्जाम, जानें उनकी रणनीति

आज हम आपको बताने जा रहे हैं, पेशे से एमबीबीएस और एमडी डॉक्टर निधि पटेल की कहानी जिन्होंने अपने पहले ही प्रयास में अपना यूपीएससी का एग्जाम पास कर लिया| इलाहाबाद की रहने वाली निधि पटेल उस वक़्त नई दिल्ली के लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में सीनियर रेजिडेंट के रूप में काम करती थीं, जब उनके मन में यह ख्याल आया की उन्हें सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए। तो आइये जानते हैं कैसे उनके मन में यह ख्याल आया, और कैसे उन्होंने अपने सपने को पूरा करने की तैयारी शुरू की|

डॉक्टर निधि ने प्राप्त की सफलता, पहले ही प्रयास में बनी आईएएस अधिकारी

आपको बता दें की जब निधि एक डॉक्टर के रूप में काम करते हुए कई जरूरतमंद लोगों से मिलीं जिन्हें कई तरह से मदद की जरूरत थी, तो उनको काफी बुरा लगा क्योंकि अभी तक वो सिर्फ एक डॉक्टर के नाते ही चिकित्सकीय रूप से उनकी सहायता कर सकती थीं| लेकिन वह इससे बढ़कर उनकी मदद करना चाहती थी, जिस वजह से उन्होंने तय किया की वह सिविल सर्विस की परीक्षाएं देंगी|

नहीं बचे थे ज़्यादा एटेम्पट, फिर भी शुरू की पूरे आत्मविश्वास के साथ तैयारी

आपको बता दें क्योंकि निधि ने अपनी सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी काफी देर से शुरू की इसलिए अब उनके पास ज्यादा अटेंप्ट नहीं बचे थे। उनके पास इस परीक्षा को पास कर आईएएस बनने के लिए सिर्फ दो एटेम्पट बचे थे| इसीलिए इसे पास करने के लिए उन्होंने जी तोड़ मेहनत करना शुरू किया|

केवल 8 से 9 महीने की तैयारी के साथ ही उन्होंने इस परीक्षा में सफलता हासिल की| उन्होंने इस परीक्षा की तैयारी के लिए नोट्स बनाने में ज़्यादा समय नहीं लगाया| बल्कि अच्छा कंटेंट इक्कठा करना, सिलेबस को अच्छी तरह से पड़ना, इसमें उनका फोकस ज़्यादा था| वह मानती हैं की अगर आपको टॉपिक की जानकारी हो तो आपको राइटिंग प्रैक्टिस की इतनी ज़रूरत नहीं होती है|

निधि ने अपनी तैयारी में मुख्यता मॉक टेस्ट क्रैक करना और समय पर सभी सवालों के जवाब देने की प्रैक्टिस शुरू की। निधि मानती हैं की इस एग्जाम को क्रैक करना तभी संभव है जब आप में ऐसा करने के लिए आत्मविश्वास और दृढ़ संकल्प हो।

+