भारतीय महिलाओं ने रियो ओलंपिक में अच्छा प्रदर्शन किया, यही टोक्यो के लिए मेरी प्रेरणा है: गोल्फर अदिति अशोक

2016 में रियो ओलंपिक में महिलाओं ने यह सुनिश्चित किया था कि भारत ब्राजील से खाली हाथ नहीं लौटेगा। पीवी सिंधु के बैडमिंटन में सिल्वर और कुश्ती में साक्षी मलिक के ब्रोंज ने भारत के ओलंपिक इतिहास में महिलाओं के योगदान को जोड़ा, यह सब पूरे 16 साल बाद हुआ था जब पूर्व भारोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 में सिडनी में ब्रोंज जीता था।

गोल्फर अदिति अशोक ने भारतीय महिलाओं के रियो ओलंपिक में अच्छे प्रदर्शन को अपने टोक्यो मैच के लिए बनाया प्रेरणा

टोक्यो ओलंपिक में महिला क्षेत्र में भारत की अकेली गोल्फर अदिति अशोक रियो में साक्षी और सिंधु के कारनामों से प्रेरणा लेना चाहती हैं। अदिति ने कहा – महिलाओं ने रियो में अच्छा प्रदर्शन किया और यह मेरे लिए इस बार टोक्यो में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए एक प्रेरक कारक है।

अदिति ने शीर्ष 60 गोल्फरों में विश्व में 45वां स्थान प्राप्त करने के बाद टोक्यो का टिकट बुक किया। 23 वर्षीय इस अवसर का पूरा उपयोग करना चाहती हैं, ताकि वह देश में गोल्फ के लिए और अधिक पहचान अर्जित कर सके।

2016 में प्रोफेशनल गोल्फर बनने के बाद से एलपीजीए और एलईटी दौरों पर खेलने वाली अदिति ने कहा, “मुझे लगता है कि ओलंपिक में एक महिला गोल्फर होने के नाते खेल को लोकप्रिय बनाने का यह एक शानदार मौका है । गोल्फ भारत में उतना लोकप्रिय नहीं है, इसलिए दुनिया के सबसे बड़े मंच पर खेलने से निश्चित रूप से खेल के विकास में मदद मिलेगी|”

रियो ओलम्पिक के दौरान अदिति सिर्फ 18 वर्ष की थी, लेकिन पांच साल बाद बेंगलुरु की इस होनहार लड़की ने इस खेल के बारे में बहुत कुछ सीखा और उसी का नतीजा है की आज उन्होंने 45वां स्थान प्राप्त कर लिया है|

अदिति ने बताया कि पिछले पांच वर्षों से एलपीजीए (दौरे) पर खेलने का अनुभव अमूल्य रहा और मुझे लगता है कि अधिक टूर्नामेंट खेलने से हमेशा मेरे प्रदर्शन को ऐतिहासिक रूप से मदद मिली है। इसलिए निश्चित रूप से ओलंपिक से पहले एलपीजीए पर खेलने से मुझे बहुत मदद मिलेगी| 23 वर्षीय अदिति ने प्रोफेशनल ग्रीन्स पर कदम रखने से पहले 2015 में लेडीज ब्रिटिश एमेच्योर स्ट्रोक प्ले चैंपियनशिप जीती थी|

+