यू.पी. : अनाथों से परित्यक्त महिलाओं तक, यह आईएएस अधिकारी उन सभी के लिए एक हीरो रहे हैं, जानिये पूरी बात

परित्यक्त बूढ़ी महिलाओं से लेकर छोटे बच्चों तक जिन्होंने अपने माता-पिता को खो दिया है- डॉ अनिल कुमार पाठक, एक आईएएस अधिकारी, जो फैजाबाद के जिला मजिस्ट्रेट हैं, अतिरिक्त मील जाने और जरूरतमंद लोगों की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ने के लिए जाने जाते हैं।

मिलिए ऐसे आईएएस अधिकारी से जो जाने जाते हैं अपने सहायक स्वभाव के लिए, अनाथों से परित्यक्त महिलाओं तक सभी की करते हैं मदद

जब उत्तर प्रदेश के रामपुर माया गाँव के एक किसान महेंद्र कुमार 2016 में एक झील में डूब गए थे और उनकी पत्नी गायत्री देवी और तीन बच्चों को पीछे छोड़ गए। गायत्री ने एक बीमा दावा दायर किया लेकिन दुर्भाग्य से एक सड़क दुर्घटना में उसकी जान चली गई, इससे पहले कि वह पैसे प्राप्त कर पाती।

तीनों बच्चे, सभी नाबालिग, अनाथ हो गए थे| डीएम ने कहा कि बीमा राशि को मंजूरी दिलवाई और उन्होंने बच्चों के अभिभावक के रूप में कदम रखा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह उन तक पहुंचे. इस उद्देश्य के लिए, उन्होंने अपने सहायक को उनके लिए एक बैंक खाता खोलने और कार्यवाही की निगरानी करने का निर्देश दिया, जिससे बीमा राशि को वहां स्थानांतरित करने की अनुमति मिल जाएगी।

इन आईएएस अधिकारी ने अपने सहायक स्वभाव के चलते किया था एक मृत वृद्ध का अंतिम संस्कार

इसी साल जनवरी में उन्होंने 100 साल की विधवा रमापति को गोद लिया था, और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उनके गांव में एक घर, वृद्धावस्था पेंशन, बीपीएल राशन कार्ड और नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से एक डॉक्टर उनके नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए रोजाना आने का आदेश दिया| यही नहीं बल्कि डीएम सड़क पर मिली एक परित्यक्त बूढ़ी महिला का अंतिम संस्कार भी किया।

पाठक न केवल बेसहारा लोगों की देखभाल करते हैं। बल्कि जब एक किसान ने उनके गांव में गंदगी के बारे में शिकायत करने के लिए उनसे संपर्क किया था। उपदेश न देने का निश्चय करते हुए डॉ पाठक गाँव पहुँचे, झाडू लेकर सड़कों पर झाडू लगाने लगे। वह जल्द ही ग्रामीणों से जुड़ गए, जो समझ गए थे कि सार्वजनिक स्थानों को बनाए रखने के लिए एक संयुक्त प्रयास बहुत ज़रूरी है। इन कार्यों ने उन्हें व्यापक प्रशंसा अर्जित की है| वह अपने सहायक स्वभाव का श्रेय “मानवीय परवरिश” को देते हैं जो उन्हें अपने माता-पिता से मिली थी।

+