बर्थडे पर विश नहीं किया तो पत्नी ने बोला साथ नहीं रहना

पति ने बर्थ-डे विश नहीं किया तो पत्नी इतनी नाराज हो गयी कि उसने उसके साथ रहने से इंकार कर दिया। पति मिन्नतें करता रहा, लेकिन पत्नी साथ जाने को तैयार नहीं हुई। काउंसलर्स ने भी समझाने का प्रयास किया। लेकिन पत्नी नहीं मानीं। अब दोनों को दूसरी तारीख देकर बुलाया गया है।

परिवार परामर्श केंद्र में उच्च शिक्षित लोगों के ऐसे कई मामले पहुंचे हैं। जिन्हें सुनकर काउंसलर्स भी हैरान हैं। दयालबाग निवासी महिला की शादी तीन साल पहले आगरा में ही हुई थी। महिला जानी-मानी यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रही है। वहीं पति जाने-माने कॉलेज में एकाउंटेंट हैं। पति का कसूर इतना है कि वह अपने माता-पिता से हर काम पूछकर करता है। साथ ही पत्नी के जन्मदिन पर उसे विश नहीं कर पाया। इसका नतीजा यह हुआ कि वह बेपरवाह पति हो गया। पत्नी ने साढ़े तीन साल की सभी शिकायतों को इकट्ठा कर परिवार परामर्श केंद्र में शिकायत कर दी।

वहीं एक और मामले में पत्नी ने बच्चे की ऑनलाइन फीस जमा न करने की बात को लेकर पति की शिकायत कर दी। पत्नी ने आरोप लगाया कि स्कूल से लगातार फोन आने पर भी पति ने फीस जमा नहीं की। इससे मेरी टीचर्स के सामने बेइज्जती हुई। इसलिए मैं मायक आ गयी। हालांकि दंपत्ति का समझौता हो गया। पति हर बात मानने को तैयार हुआ। एक महिला दूसरी शादी के बाद भी पति से खुश नहीं है। अपने बेटे की खातिर वह तलाक पर अड़ी रही। मामले को कोर्ट में भेजा है। परिवार परामर्श केंद्र में आज उच्च शिक्षित पति-पत्नी के 15 से अधिक मामले आए। जिनमें से सिर्फ एक मामले में ही सुलह हो पाई। काउंसलर डॉ. एके सिंह ने बताया कि दोनों में ईगो की परेशानी बढ़ गई है। जिसके चलते उच्च शिक्षित लोगों के भी मामलों की भरमार होती जा रही है।

+