कभी मिले थे पांच बेटियों के जन्म पर ताने, आज यूपी के इस परिवार की दो बेटियां आईएएस वा एक बेटी आईआरएस है

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के रहने वाले चन्द्रसेन सागर और मीना देवी के घर जब पांच बेटियों ने जन्म लिया, तो लोगों ने उन्हें बहुत ताने मारे| लेकिन आज जिस प्रकार चन्द्रसेन सागर और उनकी पत्नी मीना देवी ने अपनी पाँचों बेटियों को अच्छी परवरिश वा माहौल दे कर जिस मुकाम पर पहुंचा दिया है, उन्होंने यह साबित कर दिया की बेटियां भी किसी से कम नहीं है| जो लोगों बेटियों को बोझ समझते हैं, उन सभी के लिए यह परिवार एक मिसाल है, की अगर आप अपनी बेटियों को अच्छी शिक्षा दें तो वे आसमन की बुलंदियां हासिल कर सकती हैं|

यूपी के इस परिवार की दो बेटियां हैं आईएएस वा एक बेटी है आईआरएस, कभी पांच बेटियों के जन्म पर मिले थे ताने

आपको बता दें की एक एक समय ऐसा था जब पांच बेटियों के जन्म और उनकी पढ़ाई को लेकर लोग चन्द्रसेन सागर और मीना देवी को यह कहकर ताना मारा करते थे की इन्हे इतना क्यों पढ़ा रहे हो, कौन सा पढ़ लिखकर इन्होने आईएएस बनना है, लेकिन चन्द्रसेन सागर और मीना देवी अच्छी सोच के लोग थे, उन्होंने कभी अपनी बेटियों को बोझ नहीं समझा, और उनकी पढ़ाई में ज़रा भी कमी नहीं आने दी, यही कारण है की आज उनकी पाँचों बेटियों ने सफलता हासिल की है और इस वक़्त अच्छे पदों पर नौकरी कर रही हैं|

चन्द्रसेन सागर की पाँचों बेटियां हैं सफल, किया है परिवार को गौरवान्वित

आज चन्द्रसेन सागर और मीना देवी ने अपनी पाँचों बेटियों को पढ़ा लिखाकर साबित कर दिया है की बेटियां भी बेटों से कम नहीं हैं| चन्द्रसेन सागर और मीना देवी की पांच बेटियों में से दो बेटियां आईएएस अफसर बन चुकी हैं और सबसे छोटी बेटी आईआरएस अफसर के पद पर तैनात हैं| उनकी तीसरे और चौथे नंबर की बेटियां बहुत अच्छी प्राइवेट कंपनियों में ग्राफ़िक डिज़ाइनर हैं, और छठे नंबर पर उनका बेटा है, जो एक फिल्म डायरेक्टर है और बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर मलंग फिल्म में काम कर चुका है|

एक इंटरव्यू के दौरान चंद्रसेन सागर ने कहा था की, “मैं वह खुशनसीब पिता हूं, जिसकी पांचों बेटियां सफल हैं।” चन्द्रसेन सागर एक बहुत ही गौरवान्वित पिता हैं, जिनकी बेटियों ने उनकी उम्मीद से भी बढ़कर काम कर दिखाया है| वे बताते हैं की कभी एक समय था जब उनका परिवार राजनीति से जुड़ा था, और आज उनका परिवार आईएएस आईआरएस बेटियों के नाम से जाना जाता है|

+