विदेश में छोड़ी लाखों की नौकरी, फिर शुरू की यूपीएससी की तैयारी, जानें कैसे पायी अभिषेक ने सफलता

आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे व्यक्तित्व की कहानी जिन्होंने विदेश में करोड़ों की नौकरी ठुकराई, और अपने देश में वापिस आ शुरू की सिविल सर्विसेज की तैयारी| उनकी कड़ी मेहनत, दृढ़ संकल्प, और आत्मविश्वास ही है, जिसने उन्हें आज इस मुकाम पर पहुंचा दिया है, जिससे वह सबके लिए एक उदाहरण बन गए हैं| आइये जानते हैं विदेश की नौकरी छोड़ आये, और पांच साल के कठिन संघर्ष के बाद बने आईएएस अभिषेक सुराना की कहानी|

विदेश में छोड़ी लाखों की नौकरी, और वापिस आ शुरू की यूपीएससी की तैयारी, जानें आईएएस अभिषेक सुराना की कहानी

मूल रूप से राजस्थान के भीलवाड़ा के निवासी अभिषेक सुराना ने अपना स्नातक आईआईटी दिल्ली से किया| इसके बाद उनको एक विदेश की कंपनी से बहुत अच्छा पैकेज मिला| उन्होंने वह नौकरी स्वीकार कर ली, लेकिन फिर भी उन्हें अपनी नौकरी से संतुष्टि नहीं मिली, इसीलिए वे वापिस अपने वतन लौट आये, और देश के लिए कुछ करने की इच्छा रखते हुए यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी|

लौटने के बाद उन्होंने सबसे पहले एक मज़बूत स्ट्रेटेजी बनाई| इसके लिए सबसे पहले उन्होंने अपने लिए स्टडी मटेरियल इक्कट्ठा किया| इसके बाद पूरे दृढ़ संकल्प के साथ अपनी तैयारी शुरू की|

असफलता से नहीं मानी हार, और आखिर पा लिया मुकाम

अभिषेक ने पूरे पांच सालों तक अपने सपने को हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की| शुरू के दो प्रयासों में वे असफल रहे, लेकिन अपनी असफलता से अभिषेक ने हार नहीं मानी, और दोबारा उसी आत्मविश्वास के साथ और ज़्यादा तैयारी करने लगे| तीसरी बारी में उन्हें सफलता मिली, लेकिन उनकी रैंक 250 आई, जिस वजह से उन्हें आईएएस नहीं मिला|

इसके बाद उन्होंने दोबारा इस परीक्षा के लिए तैयारी की और अपने चौथे प्रयास में वे सफल हो गए| इस बार उनकी ऑल इंडिया रैंक 10 आयी, जिसे हासिल कर उन्होंने अपना आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा कर लिया|

+