इजराइल ने की गाजा पट्टी पर बमबारी, बैलून छोड़े जाने के बाद जवाबी कारवाही

इजरायल की सेना ने शुक्रवार 2 जुलाई को गाजा पट्टी में हमास की साइट पर बमबारी की| इजरायल की सेना का कहना है कि फिलिस्तीनी एंक्लेव से आगजनी वाले बैलून छोड़े जाने के जवाब पर ही इजराइल की सेना ने रात भर गाजा पट्टी के हमास में बमबारी की| फ़िलहाल इजराइल द्वारा किये गए हमले से किसी के ज़ख़्मी होने की कोई खबर नहीं आयी है| इजराइल की सेना ने यह दावा किया है की उसने हमले में हमास, गाज़ा के हथियार निर्माण स्थल को निशाना बनाया है| हालांकि हमास, गाज़ा द्वारा हमले पर कोई टिपण्णी नहीं की गयी है|

इजरायल ने गाजा में हमास साइट पर आग के गुब्बारों को लेकर हमला किया

इजरायल की सेना ने शुक्रवार को कहा कि फिलिस्तीनी एन्क्लेव से आग लगाने वाले गुब्बारों के जवाब में इजरायली विमानों ने गाजा पट्टी में हमास के एक स्थल पर रात भर बमबारी की। 21 मई को इजराइल-हमास की 11 दिनों की लड़ाई समाप्त हो गयी थी| इस लड़ाई के बाद गाजा में फिलिस्तीनियों ने सीमा पार आग लगाने वाली सामग्री से लदे गुब्बारों को छिटपुट रूप से लॉन्च किया, जिससे इजरायल में खेतों में आग लग गई।

क्यों छोड़े फिलिस्तीनियों ने इजराइल पर आग के गुब्बारे

फिलीस्तीनियों का कहना है कि गुब्बारों को छोड़ने का उद्देश्य इजरायल पर मई की लड़ाई के दौरान कड़े किए गए तटीय एन्क्लेव पर प्रतिबंधों को कम करने के लिए दबाव बनाना था। पिछले हफ्ते इजरायल द्वारा गाजा पर कुछ प्रतिबंधों में ढील दिए जाने के बाद बैलून लॉन्च में कमी आई थी। लेकिन गुरुवार को गाजा से फिर से गुब्बारे छोड़े गए, जिससे सीमा से लगे इजरायली शहरों के पास कम से कम चार बार आग लग गई। मई की लड़ाई में कम से कम 250 फिलिस्तीनी और 13 इजरायल में मारे गए थे, जिसमें गाजा के आतंकवादियों ने इजरायल के शहरों की ओर रॉकेट छोड़े थे।

इजराइल ने कैसे दिया हमले का जवाब

इजराइल ने आज 2 जुलाई को एयर स्ट्राइक कर फिलिस्तीनियों को जवाब दिया| सेना ने एक बयान में कहा, “इजरायली क्षेत्र की ओर आगजनी के गुब्बारे की आग के जवाब में आज आईडीएफ (इजरायल सेना) लड़ाकू जेट विमानों ने हमास से संबंधित हथियार निर्माण स्थल पर हमला किया”|

हमास के प्रवक्ता फावजी बरहौम ने इजरायल के हमलों को एक “दिखावटी प्रतिक्रिया” कहा है और कहा कि फिलिस्तीनी इजरायल पर दबाव डाल रहे थे, और इसे हमारे लोगों के अधिकारों का सम्मान करने और अपने अन्यायपूर्ण पदों पर वापस जाने के लिए मजबूर कर रहे थे।

+