उत्तर प्रदेश के इस जिले में एक आदमी ने की अपने बच्चे को तीन लाख रूपये में बेचने की कोशिश, जब नहीं बिका तो किया ये

खबर उत्तर प्रदेश के अमरोहा डिस्ट्रिक्ट की है, जहां एक आदमी ने अपने तीन साल के मासूम बच्चे को बेचने की कोशिश की| गरीबी से छुटकारा पाने के लिए, यह आदमी अपने बच्चे को बेचने की बेताब कोशिश करता रहा| बच्चे की माँ ने बहुत कोशिश की कि वह बच्चे को ना बेचे लेकिन वह फिर भी अपनी ज़िद पर अड़ा रहा, और जब उसे बच्चे के कोई खरीददार नहीं मिले, तो उसने उठाया ये कदम|

नहीं मिले बच्चे के खरीददार तो पिता ने उठाया ये हैवानियत भरा कदम

यूपी के अमरोहा जिले में एक भी खरीदार नहीं मिलने पर कथित तौर पर गुस्से में बच्चे के पिता ने उसकी हत्या कर दी। आरोपी मोहम्मद नौशाद नाम के मजदूर को बुधवार शाम उसके पिता द्वारा धनोरा इलाके के थाने जाकर उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराने के बाद गिरफ्तार किया गया।
जांच के दौरान बच्ची की मां नजराना ने पुलिस को बताया कि उसका पति बच्चे को बेचने पर अड़ा हुआ था| उसने यह भी दावा किया कि नौशाद शराब का आदी था और वह अमीर बनने के लिए जुए के लिए पैसे चाहता था।

बच्चे की माँ के मना करने पर भी बेचना चाहता था बच्चे को

बच्चे की माँ इस फैसले के खिलाफ थीं और इसे लेकर उनके बीच अक्सर मारपीट होती रहती थी। मंगलवार दोपहर नौशाद ने नजराना को धनोरा मंडी क्षेत्र के पड़ोसी से फोन का चार्जर उधार लेने के लिए भेजा। उसे शक हुआ तो वह जल्दी लौट आई। और उसने नौशाद को बच्चे का दम घोंटते हुए पकड़ा, जो तब तक बेहोश हो चुका था, ”एक पुलिस अधिकारी ने कहा।

नजराना अपने बेटे को अस्पताल ले गई, लेकिन डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। तभी नौशाद के नाराज पिता ने थाने जाकर प्राथमिकी दर्ज करायी| स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) जयवीर सिंह ने कहा, “इस जोड़े की शादी चार साल पहले हुई थी। उनके दो बच्चे थे। नौशाद मजदूरी करता है और शराब का आदी है। उसे जुआ खेलने का भी शौक है। अपनी गरीबी से छुटकारा पाने के लिए वह अपने बेटे को बेचना चाहता था। जब उसे कोई खरीदार नहीं मिला, तो उसने निराशा में अपने एक साल के बच्चे को मौत के घाट उतार दिया। एसएचओ ने कहा, ‘मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपी को जेल भेज दिया गया है।”

+