दिल्ली, कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये के पार – नवीनतम दरों की जाँच करें

तेल विपणन कंपनियों ने एक दिन के अंतराल के बाद ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी की। ताजा बढ़ोतरी के बाद पहली बार दिल्ली और कोलकाता में ईंधन की कीमतें 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई हैं।

पेट्रोल की कीमतों में आयी बढ़ोतरी, पहली बार हुआ पेट्रोल 100 रूपये के पार

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में मामूली गिरावट के बावजूद बुधवार को सरकारी तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) ने ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी की। पेट्रोल और डीजल की दरों में क्रमश: 35 पैसे और 17 पैसे की बढ़ोतरी की गई। आज की बढ़ोतरी के बाद दिल्ली और कोलकाता में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई। राष्ट्रीय राजधानी में एक लीटर पेट्रोल 100.21 रुपये और कोलकाता में 100.23 रुपये पर बिक रहा है। मुंबई में पेट्रोल की कीमत 106 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई है, जबकि चेन्नई में इसकी कीमत 101.06 रुपये प्रति लीटर है।

इस बीच, नई दिल्ली में डीजल की कीमत 89.53 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में 97.09 रुपये प्रति लीटर हो गई है। कोलकाता में कीमत 92.50 रुपये प्रति लीटर है, और यह चेन्नई में 94 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई है। दरअसल, राजस्थान के श्रीगंगानगर में भी डीजल की कीमत तीन अंकों के पार पहुंच गई है|

क्यों आ रही है पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इतनी तेज़ी

4 मई से अब तक ईंधन की कीमतों में 36 बार बढ़ोतरी हुई है और इस अवधि के दौरान दरों में कम से कम 7-8 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है। घरेलू ईंधन की कीमतों में तेज वृद्धि अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की दरों में वृद्धि के कारण हुई है।

बेंगलुरु, भुवनेश्वर, हैदराबाद, जयपुर, पटना और तिरुवनंतपुरम जैसे प्रमुख शहरों सहित दो दर्जन से अधिक शहर ऐसे हैं जहां पेट्रोल की कीमत तीन अंकों को पार कर गई है। वैश्विक तेल की स्थिति भारत के लिए एक बड़ी बाधा बन गई है| जहां 2020 के बाद से पेट्रोल और डीजल की औसत कीमत में लगभग 25-30 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है। ईंधन की कीमतों में तेज वृद्धि ने कई वस्तुओं और सेवाओं को और अधिक महंगा बना दिया है और नागरिकों को आर्थिक रूप से प्रभावित कर रहा है।

हालांकि आज वैश्विक कच्चे तेल की दरों में मामूली गिरावट आई है, लेकिन विश्लेषकों का मानना ​​है कि कीमतें बढ़ती रह सकती हैं क्योंकि तेल उत्पादक देश तेल उत्पादन और आपूर्ति बढ़ाने पर आम सहमति तक नहीं पहुंच पा रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.