यू.पी. : धोखे से करवा रहे थे दो नाबालिग बच्चों कि शादी, माँ-बाप को पुलिस ने हिरासत में लिया

खबर उत्‍तर प्रदेश के देवरिया जिले कि है, जहां दो मासूमों को बाल विवाह का शिकार बनाया जा रहा था, और यह हरकत किसी और कि नहीं बल्कि उनके खुद के माता पिता की थी| पर अनहोनी होते होते बच गयी, सही समय पर पुलिस मौके पर पहुँच गयी और उन्होंने यह बाल विवाह होने से रोक दिया|

मौसी की शादी और चाचा के लिए दुल्हनिया देखे जा रहे हैं बोलकर माता पिता बांधना चाहते थे दो मासूमों को बाल विवाह के बंधन में

मामला देवरिया के लार थाना क्षेत्र का है। जब दोनों बच्चों की कॉउंसलिंग की गयी तो पता चला की किशोरी के माता पिता ने उसे कहा था की मौसी की शादी में जा रहे हैं वा किशोर के माता पिता ने कहा था की चाचा के लिए दूल्हा देखने जा रहे हैं| पर दरअसल वे उनको धोखे में रखते हुए मैरवा के एक मंदिर में शादी रचाने के लिए ले गए थे|

आपको बता दें की किशोरी की उम्र 11 वर्ष वा किशोर की उम्र 15 वर्ष है| दोनों बच्चे इस बात से एक दम अनजान थे की उनके माता पिता उनके साथ क्या करने जा रहे हैं| 11 साल की किशोरी सीवान जिले वा 15 साल के किशोर गुठनी क्षेत्र का रहने वाला है |

नाबालिगों की शादी की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों पक्षों के माता पिता को हिरासत में लिया

जैसे ही एसपी देवरिया डॉक्टर श्रीपति मिश्र को नाबालिगों की शादी की सूचना मिली उन्होंने तुरंत जिला प्रोबेशन अधिकारी प्रभात कुमार, बाल सुरक्षा अधिकारी जयप्रकाश तिवारी, एसडीएम सलेमपुर गुन्जन द्विवेदी व लार पुलिस को इस बात की सूचना दी और उन्हें फ़ौरन वहां जाकर शादी रुकवाने का निर्देश दिया।

बात की गंभीरता को जानते हुए जैसे ही उन्हें निर्देश मिले वे तुरंत वहां गए, और बाल विवाह को रुकवा दिया और दोनों पक्षों के माता पिता को हिरासत में लिए| बाल विवाह एक अपराध है और जो भी यह दुर्साहस करने की हिम्मत करता है, कानून उसे इसका अपराध ज़रूर देता है| क्योंकि उन्होंने यह अपराध करने के हिम्मत की इसीलिए दोनों के माता पिता के खिलाफ जाँच चल रही है और सख्त कार्रवाई की जाएगी| पुलिस ने बाल विवाह रुकवाते हुए इसमें शामिल एक दर्जन के करीब घराती और बाराती सभी को हिरासत में ले लिया था, पर उन्हें छोड़ा जा चुका है|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *