उत्तर प्रदेश: प्रयागराज में नैनी जेल के कैदी हैं हैंडलूम बेडशीट और कालीन के विशेषज्ञ

आज हम आपको बताने जा रहे हैं की नैनी जेल के कैदियों की उपलब्धियों के बारे में| भले ही यह एक छोटे से कदम के रूप में शुरू हुआ हो, लेकिन नैनी सेंट्रल जेल में बंद कैदी, सिर्फ वहां अपनी सज़ा ही नहीं काट रहे हैं, बल्कि वे अपने अंदर के हुनर को निखार रहे हैं| नैनी जेल के कैदी अब बेडशीट, तौलिये और हैंडलूम कालीन बना रहे हैं| जेल अधिकारियों ने कैदियों की कड़ी मेहनत की सराहना की है, जिन्होंने 1 अप्रैल, 2020 से 30 मार्च, 2021 के बीच 1,476 बेडशीट, 2,760 कालीन और 3,360 तौलिये बनाये और सफलता की कहानी लिखी|

नैनी जेल के कैदी हैं प्रतिभाशाली, बनाते हैं जेल में बैडशीट, कालीन आदि

कैदियों ने 1 अप्रैल, 2020 और मार्च 2021 के बीच 44,784 किलोग्राम से अधिक वाशिंग पाउडर और 2,34,840 नहाने के साबुन का निर्माण और बिक्री करने में कामयाबी हासिल की और ऑर्डर बंद नहीं हुए। नैनी जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पांडे ने कहा, “कैदियों ने डिटर्जेंट केक, नहाने के साबुन, फिनाइल, फर्श मैट, गमछा और सूती मास्क जैसे विभिन्न उत्पादों का निर्माण किया है।”

कैदियों द्वारा बनाये सामान के लिए आते हैं ऑर्डर, होती है कई जगहों की आपूर्ति

उन्होंने कहा, “25 कैदियों का एक समूह विभिन्न आकारों की चादरें, सूती कालीन और तौलिये को आकार देने के लिए अथक प्रयास कर रहा है, जिनसे राज्य भर की 72 जिला जेलों और केंद्रीय जेलों में आपूर्ति की जा रही है।” पांडे ने कहा, “बेडशीट, तौलिये और सूती कालीन के लिए विभिन्न जेलों और सेक्टरों से ऑर्डर आए हैं,” उन्होंने कहा, “कैदी भी अपने कौशल में सुधार के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं।”

कैदियों को चादर, तौलिया और सूती कालीन बनाने के लिए कच्चा माल उपलब्ध कराया जा रहा है और इन वस्तुओं का निर्माण मांग के अनुसार किया जा रहा है। इसके अलावा, कैदी परिसर के अंदर लकड़ी का फर्नीचर भी बना रहे हैं, जिसकी आपूर्ति यूपी में अदालतों सहित कई क्षेत्रों में की जा रही है।

+