पिता का आशीर्वाद ले जेवलिन थ्रोवर शिवपाल सिंह हुए टोक्यो ओलंपिक्स के लिए रवाना

उत्तर प्रदेश के चंदौली जनपद स्थित शिवपाल सिंह के गांव हिंगुतरगढ़ में बृहस्पतिवार से हवन-पूजन का सिलसिला जारी है, क्योंकि गांव के लिए ये बहुत गर्व की बात है की वहां का बेटा टोक्यो ओलंपिक्स के लिए रवाना हो रहा है, सब बस यही दुआ कर रहे हैं की गांव का बेटा शिवपाल सिंह स्वर्ण पदक लेकर आये और पुरे देश और गांव का नाम रोशन करे|

जेवलिन थ्रोवर शिवपाल सिंह पिता के आशीर्वाद के साथ हुए टोक्यो के लिए रवाना

जेवलिन थ्रोवर शिवपाल सिंह शुक्रवार को टोक्यो ओलंपिक्स के लिए रवाने हो चुके हैं| जाने से पहले उन्होंने अपने पिता रामश्रय सिंह का आशीर्वाद लिया, फिर वह दिल्ली हवाई अड्डे से टोक्यो ओलंपिक के लिए रवाना हुए। ईश्वर और घर के बुज़ुर्गों के आषीर्वाद पर पूर्ण विश्वास रखते हुए शिवपाल ने कहा – बाबा विश्वनाथ, पिता और बुजुर्गों के आशीर्वाद से स्वर्ण पदक लेकर ही लौटूंगा।

आपको बता दे की वायुसैनिक शिवपाल सिंह ने पिछले वर्ष 10 मार्च 2020 को दक्षिण अफ्रीका में क्वालीफाइंग मुकाबले में 85 मीटर की अपेक्षा 85.47 मीटर की दूरी तक भाला फेंक कर टोक्यो ओलंपिक का टिकट हासिल किया था। लेकिन पिछले वर्ष कोरोना महामारी के कारण टोक्यो ओलंपिक्स स्थगित कर दिए गए थे । लेकिन इस वर्ष टोक्यो ओलंपिक्स की तारिख की घोषणा होने के बाद से शिवपाल जी तोड़ महंत करने लगे थे, और यही महंत वजह है की वे आत्मविश्वास से भरे हैं की इस बार स्वर्ण लेकर ही आएंगे |

पीएम मोदी ने भी जताया विश्वास

आपको बता दे की पीएम नरेंद्र मोदी पहले ही यह विश्वास जता चुके हैं की शिवपाल सिंह टोक्यो ओलंपिक्स से स्वर्ण लेकर ही लौटेंगे। पीएम ने 27 जून को ‘मन की बात’ कार्यक्रम में भी शिवपाल सिंह की मेहनत को सराहा था, और कहा था कि शिवपाल का पूरा परिवार ही इसी खेल से जुड़ा है। उनके पिता, चाचा और भाई सभी भाला फेंकने में दक्ष हैं, और परिवार की यही परंपरा ही उन्हें टोक्यो ओलंपिक्स में स्वर्ण पदक दिलाएगी|

+