यू.पी. : घरेलू सहायक का बेटा करता था पढ़ाई के लिए संघर्ष, आज दे रहा है 200 बच्चों को मुफ्त में शिक्षा

कानपुर के रहने वाले नितिन कुमार का बचपन याद आता है जब उन्होंने अपनी मां को देखा था, जो विभिन्न घरों में घरेलू सहायिका के रूप में काम करती थी, अपने परिवार के लिए भोजन बनाने के लिए कड़ी मेहनत करती थी। वह एक दिन में केवल 25 रुपये कमाती थी, और उसके बच्चों की स्कूल फीस 300 रुपये प्रति माह थी। नितिन कहते हैं, “मेरे पिता के पास कभी कोई स्थिर नौकरी नहीं थी, और मेरे माता-पिता की कमाई हमारे छह लोगों के परिवार का भरण-पोषण करने और हमारी शिक्षा का खर्च उठाने के लिए अपर्याप्त थी।”

बचपन में किया था शिक्षा के लिए संघर्ष, आज दे रहे 200 बच्चों को मुफ्त में शिक्षा

28 वर्षीय नितिन बताते हैं की “अक्सर, मैं और मेरे भाई-बहन उन घरों में बासी, बचा हुआ खाना खाते थे, जहां वह काम करती थी। इस बीच, वह अपना पेट भरने के लिए पानी में चीनी मिलाती है। ”

“यहां तक ​​​​कि जब मैं स्कूल जाने में कामयाब रहा, तो हमारे पास नोटबुक, पेंसिल, पेन, वर्दी और अन्य खर्चों जैसे कि क्लास प्रोजेक्ट या स्कूल के कार्यक्रमों के लिए योगदान के लिए पर्याप्त पैसा नहीं था। मेरे सहपाठियों ने निजी ट्यूशन में भाग लिया, लेकिन मुझे पढ़ाई के लिए खुद पर निर्भर रहना पड़ा,” नितिन बताते हैं|

पढ़ाई को बनाया जरिया, और हासिल की सफलता

नितिन और उनके परिवार ने जीवन में बहुत संघर्षों का सामना किया था, इसीलिए वे समझ गए की शिक्षा ही एक ऐसा मार्ग है जो उनकी इस तंगी को दूर कर सकता है| बस फिर नितिन ने दृढ़ संकल्प कर लिया की अब वे अपने परिवार से इन दुःख के बादलों को हटा कर ही रहेंगे| नितिन ने अपना रास्ता खोज लिया और कानून की डिग्री हासिल की, जिसे वह इस साल पूरा करने के लिए तैयार है।

नितिन ने जीवन में बहुत दुःख उठाये थे, शिक्षा प्राप्त करने के लिए उन्हें बहुत संघर्ष करने पड़े, इसीलिए यह सुनिश्चित करने के लिए कि उनके जैसे युवा छात्र उनके जैसा संघर्ष न करें, वह नर्सरी से कक्षा 12 तक के 200 छात्रों को उनके संबंधित विषयों के साथ-साथ संस्कृत, फ्रेंच और संगीत जैसे अन्य विषयों में पढ़ाते हैं, और इसके लिए वे उनसे कोई फीस नहीं लेते हैं, और यह नेकी का काम वे पिछले सात वर्षों से कर रहे हैं|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *