जानें कैसे उत्तर प्रदेश के इस किसान का बेटा बना आईएएस, रंग लायी पिता के बरसों की मेहनत

आज हम आपको बताने जा रहे हैं उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले की कहानी, झा एक किसान की बरसों की मेहनत रंग लायी और उनके बेटे का आईएएस अधिकारी के पद पर चयन| यूपीएससी के सिविल सर्विसेज 2014 में कई होनहारों ने डिस्ट्रिक्ट का नाम रोशन किया। पर यहां हम बताने जा रहे हैं सिविल सर्विसेज परीक्षा में 396 वी रैंक हासिल वाले अमित कुमार सिंह की कहानी|

बचपन से देखी बहुत गरीबी लेकिन आखिर अपनी मेहनत के बलबूते पर किसान का बेटा बना आईएएस

आपको बता दें की अमित कुमार सिंह जहानागंज विकास खंड के लपसीपुर ग्राम के किसान अंजनी सिंह और माता जलसा सिंह के पुत्र हैं और उनकी तीन बहनें भी हैं| रिश्तेदारों में उनके एक चाचा हैं जो सहायक अध्यापक के पद पर नियुक्त हैं| बचपन से ही अमित कुमार सिंह ने आर्थिक तंगी का सामना किया था जिस वजह से उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा गांव के प्राथमिक विद्यालय से की, हाईस्कूल बाबा राम सनेही दास इंटर कालेज भुजहीं और बाबू बागेश्वर इंटर कालेज आजमगढ़ से इंटर की पढ़ाई पूरी की। फिर उन्होंने अपना स्नातक श्री दुर्गा जी पीजी कालेज चंडेश्वर और परास्नातक डीएवी पीजी कालेज आजमगढ़ से पूरा किया।

गरीबी के बाद भी नहीं हारी हिम्मत और आईएएस बन किया सबका नाम रोशन

जैसे की आप जानते ही हैं की अमित के पिता एक किसान थे, और आर्थिक तंगी हमेशा से ही रही पर इस सब से भी उन्होंने हार नहीं मानी और कुछ कर दिखाने का दृढ़ संकल्प लिया| अपनी पढ़ाई पूरी करते ही वह सिविल सर्विस की तैयारी करने दिल्ली चले गए। जैसे की अमित हमेशा से ही एक होशियार छात्र रहे हैं, तो उन्होंने अपनी मेहनत के बलबूते पर ये मुकाम हासिल कर दिखाया और अपने परिवार का सर फक्र से ऊँचा कर दिया|

उनके आईएएस अधिकारी के तौर पर चयन होने के बाद गांव में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी| और सभी ने उनके परिवार को बहुत बहुत बधाई वा अमित को खूब तरक्की करने का आशीष दिया| अमित सभी के लिए एक मिसाल हैं की अगर मन में दृढ़ संकल्प हो तो कोई भी बाधा आपको आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती |

Leave a comment

Your email address will not be published.