यू.पी. : मिलिए सुरक्षा गार्ड के बेटे से, जिन्होंने अथक परिश्रम कर पास की यूपीएससी परीक्षा और बन गए आईआरएस अधिकारी

2015 में, एक सुरक्षा गार्ड की मेहनत रंग लायी , जब अपने तीसरे प्रयास के बाद, उनके बेटे ने देश की सबसे प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षा पास की। 242 के अखिल भारतीय रैंक के साथ, कुलदीप द्विवेदी भारतीय राजस्व सेवाओं के एक अधिकारी बन गए| लेकिन यह सब बहुत ही कठिनाइयों भरा था|

नहीं मानी हार और तीसरे प्रयास में पास की यूपीएससी परीक्षा

कुलदीप का जन्म उत्तर प्रदेश के नोगोहा जिले के शेखपुर गाँव में एक सुरक्षा गार्ड, सूर्यकांत और गृहिणी, मंजू द्विवेदी के यहाँ हुआ था। पिछले 20 वर्षों से, सूर्यकांत लखनऊ विश्वविद्यालय में एक सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करते थे और परिवार में एकमात्र कमाने वाले थे। उन्होंने अपने चार बच्चों- संदीप, प्रदीप और स्वाति और कुलदीप को अपने अल्प वेतन से पाला।

हालांकि सूर्यकांत ने केवल 12वीं तक ही पढ़ाई की और मंजू ने 5वीं कक्षा तक पढ़ाई छोड़ दी, लेकिन उनका मानना ​​था कि गरीबी से बाहर निकलने का एकमात्र तरीका शिक्षा है। उन्होंने अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए कभी भी हतोत्साहित नहीं किया। यह मुश्किल था, अक्सर विश्वविद्यालय से फीस का भुगतान करने के लिए ऋण मांगना पड़ता था, लेकिन हार नहीं मानी।

दोस्तों और सीनियर्स ने किया खूब प्रेरित

कुलदीप का छह सदस्यों वाला परिवार शेखपुर में एक कमरे के मकान में रहता था। उन्होंने लखनऊ के बछरावां में गांधी विद्यालय में स्थानांतरित होने से पहले, सातवीं कक्षा तक सरस्वती शिशु मंदिर में अपने भाई-बहनों के साथ एक हिंदी माध्यम के स्कूल में पढ़ाई की। कुलदीप ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हिंदी और भूगोल में बीए और एमए पूरा किया। इसके बाद वह जल्द ही सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए मुखर्जी नगर में किराए के कमरे में नई दिल्ली चले गए।

हालाँकि 2013 में उन्होंने एक सहायक कमांडेंट के रूप में सीमा सुरक्षा बल की परीक्षा पास कर ली थी, लेकिन उन्होंने अपनी मां से कहा कि वह साक्षात्कार के लिए भी जायेंगे, लेकिन वह बल में शामिल नहीं होंगे क्योंकि उनके दिमाग में एकमात्र लक्ष्य यूपीएससी को पास करना था। उनके दोस्त और सीनियर्स उन्हें बेहतर तैयारी के लिए प्रेरित करते रहे, और उन्होंने तीसरी बारी में परीक्षा पास कर ली। उनकी इस सफलता से पूरे परिवार की आँखों में ख़ुशी के आंसू थे|

+