10 साल पहले की थी जीरे की खेती शुरू, अब है सालाना 50 करोड़ टर्नओवर, अमेरिका-जापान करते हैं सप्लाई

इंसान चाहे तो क्या हासिल नहीं कर सकता| वह चाहे तो अपनी मेहनत के दम पर वह खेतों से सोना भी ऊगा सकता है| ऐसी ही कहानी है राजस्थान के जालोर जिले के रहने वाले योगेश जोशी की जिन्होंने जीरा, सौंफ, धनिया, मेथी जैसे मसालों की खेती करके आज करोड़ों का कारोबार खड़ा कर दिया है। उन्होंने अपने व्यवसाय की शुरुआत सात किसानों के साथ मिलकर की, और आज कड़ी महंत के दम पर वयवसाय इतना बढ़ गया है की आज उनके साथ 3000 से ज्यादा किसान जुड़े हुए हैं। अभी वे चार हजार एकड़ जमीन पर खेती कर रहे हैं और वार्षिक कारोबार 50 करोड़ रुपये से अधिक का है।

जानें कैसे योगेश जोशी ने शुरू की जीरे की खेती और कमा रहे हैं करोड़ों का मुनाफा

35 साल के योगेश बताते हैं की, ‘घर के लोग नहीं चाहते थे कि मैं खेती करूं। वे चाहते थे कि मैं सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करूं और उसी में करियर बनाऊं। कृषि से शुरुआत करने के बाद उन्होंने कहा कि मुझे इस क्षेत्र में राष्ट्रपति सेवा के लिए प्रयास करना चाहिए। उन्हें डर था कि खेती में कुछ नहीं होगा तो मैं आगे क्या करूंगा, लेकिन मेरा इरादा खेती करने का था।

योगेश कहते हैं कि शुरुआत के बाद मैंने प्राकृतिक खेती में डिप्लोमा किया। इसके बाद मैंने 2009 में खेती शुरू की। खेती के बारे में मुझे ज़्यादा कुछ पता नहीं था। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह था कि कौन सी फसल लगाएं। बहुत विश्लेषण के बाद मैंने जीरे की खेती करने का फैसला किया, क्योंकि जीरे की खेती में बहुत कमाई है, और आप इसे कभी भी प्रचारित कर सकते हैं।

शुरूआती दिनों में आयी दिक्कत, लेकिन दृढ़ संकल्प के कारण हार नहीं मानी

वह कहते हैं- पहली बार मैंने एक एकड़ जमीन पर जीरे की खेती की। लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। इसके बाद भी मैंने हिम्मत नहीं हारी। विशेषज्ञता और सलाह की कमी के कारण शुरू में हम नुकसान में थे, इसलिए डॉ अरुण.के. की मदद ली। शर्मा, केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान (CAZRI) के कृषि वैज्ञानिक हैं। उन्होंने गांव आने के बाद मेरे साथ कई और किसानों को पढ़ाया, जिसके बाद हमने फिर से जीरे की खेती की और इस बार कमाई की। इसके बाद हमने खेती का दायरा बढ़ाया। साथ ही विभिन्न फसलों की खेती भी शुरू की।

योगेश ने ऑनलाइन विज्ञापन के सभी साधनों का इस्तेमाल किया। कई फर्मों से भी संपर्क किया। वह वर्तमान में कई अंतरराष्ट्रीय और घरेलू फर्मों के साथ उद्यम कर रहे हैं। उन्होंने 400 टन किनोवा की अनुबंध खेती के लिए हैदराबाद स्थित एक फर्म के साथ हाथ मिलाया। इसके साथ ही उन्होंने एक जापानी फर्म के साथ टाई उप किया है। वे उनके लिए जीरा विकसित और आपूर्ति करते हैं। उनके उत्पाद को जापान से शानदार प्रतिक्रिया मिली है। अब उन्होंने अमेरिका को भी सप्लाई शुरू कर दी है।

 

+