यू.पी. : जानिये आईपीएस अधिकारी पूजा अवाना की कहानी, जिन्होंने 22 साल की उम्र में की यूपीएससी परीक्षा पास

उत्तर प्रदेश की रहने वाली पूजा अवाना ने 22 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा पास की थी और वर्तमान में राजस्थान पुलिस में डीसीपी के पद पर तैनात हैं।

22 वर्ष की आयु में यूपीएससी परीक्षा पास कर पूजा अवाना बनी IPS

बहुत सारे लोग IPS परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानते हैं। आज हम आपको एक ऐसी महिला की कहानी बता रहे हैं, जिसने कई मुश्किलों का सामना कर यूपीएससी पास किया। उत्तर प्रदेश की रहने वाली पूजा अवाना ने 22 साल की उम्र में यूपीएससी की परीक्षा पास की थी और वर्तमान में राजस्थान पुलिस में डीसीपी के पद पर तैनात हैं।

पूजा अवाना के पिता विजय अवाना अपनी बेटी को पुलिस की वर्दी में देखना चाहते थे। अपने पिता के सपने को साकार करने के लिए पूजा ने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। ये सफर उनके लिए बिल्कुल भी आसान नहीं था। जानकारी के मुताबिक नोएडा के अट्टा गांव की रहने वाली पूजा अवाना शुरू से टॉपर रही हैं| ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी। साल 2010 में उन्होंने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी थी। हालांकि वह सफल नहीं हो सकीं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।

असफलता से नहीं मानी हार, और बनी IPS अफसर

पूजा अवाना पहले प्रयास में फेल हो गईं, लेकिन उन्होंने अधिक तैयारी और प्रेरणा के साथ दूसरी बार परीक्षा दी। इस बार पूजा ने ऑल इंडिया रैंक 316 हासिल की और महज 22 साल की उम्र में आईपीएस ऑफिसर बन गईं। प्रशिक्षण के बाद पूजा अवाना राजस्थान के पुष्कर में तैनात थीं। यह उनकी पहली पोस्टिंग थी। इसके बाद विभिन्न पदों पर रहते हुए उन्होंने जयपुर के यातायात उपायुक्त के रूप में भी कार्य किया है और वर्तमान में राजस्थान पुलिस में डीसीपी के रूप में तैनात हैं।

2012 बैच की आईपीएस अधिकारी पूजा अवाना अपने काम के अलावा अपने लुक्स और स्टाइल के लिए भी मशहूर हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और अक्सर इंस्टाग्राम पर अपनी स्टाइलिश तस्वीरें शेयर करती रहती हैं| पूजा अवाना का कहना है कि फेल होने या बहुत अच्छे अंक न मिलने से निराश होने की जरूरत नहीं है। “असफलता, कम अंक या पहले प्रयास में सफलता न मिलने से निराश न हों, अपने लक्ष्य पर टिके रहें और अधिक मेहनत के साथ अपने सपनों का पीछा करें। इस बार नहीं तो अगली बार सफलता आपसे दूर नहीं रहेगी।”

+