अब ग्रिड बिजली पर निर्भर नहीं, यूपी के इस आदमी ने बचाये बिजली बिलों से 1 लाख रुपये

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के रहने वाले मयंक चौधरी पिछले दो साल से अपने घर में बिजली पैदा करने के लिए ऑन-ग्रिड सोलर पैनल का इस्तेमाल कर रहे हैं. 400 वर्ग फुट और दो मंजिला घर में तीन कमरे, एक रसोई और एक बगीचा है, जो सभी उसकी छत पर मौजूद इन पैनलों द्वारा संचालित हैं।

सोलर पैनल का इस्तेमाल कर मयंक बचा चुके हैं अब तक 1 लाख रूपये

“सौर पैनल बहुत महंगे नहीं हैं, और वास्तव में निवेश करने और अच्छा रिटर्न देने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक हैं,” वे बताते हैं। “मेरे घर में दो सौर पैनल 6,500 वाट ऊर्जा का उत्पादन करते हैं। मैं और मेरा परिवार सौर ऊर्जा का उपयोग करके अपने सभी उपकरण चलाते हैं, जिसमें तीन एयर कंडीशनर और रसोई के उपकरण शामिल हैं। ”

पहले पैनल पर आठ सोलर प्लेट और दूसरे पर 12 सोलर प्लेट लगाई गई हैं। मयंक कहते हैं कि पहले पैनल पर हर प्लेट करीब 325 वॉट जेनरेट करती है, जो कुल 2,600 वॉट की पावर देती है। दूसरा पैनल कुल 3,900 वॉट जेनरेट करता है। “चूंकि ऑन-ग्रिड सौर पैनल के अंदर कोई बैटरी नहीं है, कोई रखरखाव लागत की आवश्यकता नहीं है।

सोलर पैनल इनस्टॉल करने में मिली सब्सिडी

सौर ऊर्जा का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह वर्षों तक लगातार बिना ख़राब हुए चलती है। पैनल की 25 साल की वारंटी है, और मेरे इन्वर्टर की सात साल की वारंटी है, ”मयंक कहते हैं। मयंक बताते हैं की यह सोलर सेट उन्हें 3.5 लाख रुपये के पड़े। 31 वर्षीय ने कहा, “हमें यूपी सरकार से 30,000 रुपये की सब्सिडी और केंद्र सरकार से 87,750 रुपये की सब्सिडी भी मिली।”

प्लांट लगाने में महज पांच दिन लगे। नेट मीटर बिजली बोर्ड द्वारा स्थापित किया गया था और बिजली ग्रिड के अंदर ऊर्जा को संग्रहीत करने की अनुमति दी गयी| पिछले दो सालों में मयंक ने सोलर पैनल का इस्तेमाल कर 1 लाख रुपये से ज्यादा की बचत की है. “मेरा बिजली बिल पहले 10,000 रुपये तक जाता था, लेकिन अब, मुझे एक पैसा भी नहीं देना पड़ता है,” वे कहते हैं|स्वच्छ ऊर्जा पर्यावरण के अनुकूल है और प्रदूषण का कारण नहीं बनती है। “यह शॉर्ट सर्किट, बिजली की बौछार और वोल्टेज में उतार-चढ़ाव से भी सुरक्षा प्रदान करता है,” वे कहते हैं।

+