यू. पी. : कानपुर पुलिस कमिश्नर ने बुजुर्ग दंपत्ति को दिलाया इंसाफ

शहर के चकेरी इलाके में बुज़ुर्गों के बेटे और बहू द्वारा कथित तौर पर मारपीट करने और उनके घर से बाहर निकाले जाने के बाद कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम कुमार अरुण ने दिल खोलकर एक बुजुर्ग दंपति की मदद की। उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर के पुलिस आयुक्त ने एक बुजुर्ग दंपति को न्याय दिलाया है, जिन्हें उनके बेटे और बहू ने घर से निकाल दिया था। बुजुर्ग दंपत्ति को वृद्धाश्रम में रखा गया था ।

यूपी पुलिस ने बुजुर्ग दंपत्ति को बचाया, बेटे-बहू ने मारपीट कर निकाला था घर से बाहर

पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने घटना की जानकारी होने के बाद खुद मामले में हस्तक्षेप किया और बुजुर्ग दंपत्ति के लिए न्याय सुनिश्चित किया| अनिल कुमार शर्मा और उनकी पत्नी कृष्णा शर्मा को उनके बेटे और बहू ने वृद्धाश्रम भेज दिया था। कमिश्नर खुद शर्मा दंपत्ति के साथ उनके घर गए और शांति भंग करने के आरोप में गलती करने वाले बेटे-बहू को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों को तीन दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है और बुजुर्ग दंपति की सुरक्षा के लिए दो पुलिसकर्मियों को भी तैनात किया गया है।

हो रही है बेटे और बहु के खिलाफ सख्त कार्रवाई

मामला कानपुर के जाजमऊ कस्बे की केडीए कॉलोनी का है। बेटा पिछले कई सालों से अपने माता-पिता की पिटाई कर रहा था। कई वर्षों की यातना के बाद भी बेटे ने उन्हें घर से बाहर निकाल दिया और बुजुर्ग दंपति ने वृद्धाश्रम में शरण ली। दंपती ने स्थानीय थाने में बेटे व बहू के खिलाफ मामला दर्ज कराया था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। घटना की जानकारी कानपुर के पुलिस कमिश्नर को जैसे ही मिली तो उन्होंने अपने माता-पिता को छोड़ने वाले बेटे और बहू के खिलाफ सख्त कार्रवाई की|

जब से यूपी पुलिस ने कार्रवाई करते हुए वृद्ध दंपत्ति को न्याय दिलाया है, कानपुर के पुलिस विभाग की हर तरफ तारीफ हो रही है| इस घटना के बाद पुलिस आयुक्त ने कहा, “मुझे दुख हुआ और उनकी दुर्दशा सुनकर मेरा दिल टूट गया और अगर किसी थाना क्षेत्र में ऐसे मामले आते हैं, तो इसे प्राथमिकता से लिया जाना चाहिए।”

Leave a comment

Your email address will not be published.