उत्तर प्रदेश में है ऐसा गाँव जहां साड़ी और घूंघट में पहलवानी करने उतरती हैं महिलाएं, दंगल में पुरुषों की एंट्री बैन

अब तक आपने आपने पुरुष और महिलाओं की कुश्ती तो कई बार देखी होगी| लेकिन क्या आपने कभी घूंघट और साड़ी में महिलाओं को कुश्ती लड़ते हुए देखा है| आपको थोड़ा अजीब जरूर लग रहा होगा पर यूपी के हमीरपुर जिले के निवादा गांव में धूंघट और साड़ी वाली महिलाओं का दंगल होता है|

उत्तर प्रदेश के गांव में होता है साड़ी ओर घूँघट वाली महिलाओं का दंगल आयोजित, पुरुषों की एंट्री है बैन

हमीरपुर जिले के मुस्करा विकास खंड के लोदीपुर निवादा गांव में पुरानी बाजार स्थित अंग्रेजों के जमाने में शुरू हुआ महिलाओं का दंगल आज भी ज़ोरों शोरों से आयोजित किया जाता हैं| इस बार आयोजित किये गए दंगल को गांव की सरपंच (ग्राम प्रधान) गिरजा देवी ने दो महिलाओं को हाथ मिलवाकर कुश्ती का शुभारंभ कराया| इस अखाड़े में महिलाओं की 44 कुश्तियां कराई गई जिसमें तमाम साड़ी पहने घूंघट ओढे महिलाओं का गुत्थमगुत्था देखा गया|

महिलाओं के दंगल के ईद-गिर्द नहीं भटक पाए पुरुष

अखाड़े में मौजूद किशोरियां दंगल को देख कर ताली बजाने लगी| दंगल में कई बुजुर्ग महिलाएं भी मौजूद थी जिन्होंने घूंघट वाली महिलाओं के साथ कुश्ती लड़ी| अखाड़े में बुजुर्ग महिला ढोल बजाकर लोगों का उत्साह बढ़ाती रही| दंगल को आयोजित करने वाली महिला प्रधान ने कुश्ती लड़ने वाली सभी 44 महिलाओं को गिफ्ट और पुरस्कार देकर सम्मानित किया है|

दंगल का आयोजन करने वाली गांव की ग्राम प्रधान गिरजा देवी वर्मा ने बताया कि शाम को जब दंगल में आयोजन किया गया तो इसमें सिर्फ महिलाओं और किशोरियों को प्रवेश दिया गया| इस दंगल में पुरुषों के प्रवेश पर प्रतिबंध था| दंगल के चारों ओर पुरुषों पर नजर रखने के लिए ताकि वे कही से घुस कर यह दंगल न देखने लगे, इसके लिए महिलाओं की एक टुकड़ी लाठी डंडे के साथ अखाड़े के चरों ओर पहरा दे रही थीं| दंगल का आयोजन सभी सावधानियों के साथ किया गया था, और इसमें भाग लेनी वाली महिलाओं ने इस दिन भरपूर आनंद लिया|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *